नोएडा Airport की 40 % नौकरी पाने के लिए जेवर के लोगों को कौशल प्रशिक्षण देने की योजना बना रहे: BJP-MLA

punjabkesari.in Monday, Mar 21, 2022 - 09:38 PM (IST)

नोएडा: भाजपा विधायक धीरेंद्र सिंह ने कहा कि जेवर सीट से विधानसभा सदस्य के रूप में दूसरी पारी के दौरान उनकी प्राथमिकता स्वास्थ्य और शिक्षा होगी। उन्होंने कहा कि वह स्थानीय लोगों को जरूरी कौशल का प्रशिक्षण देने की योजना बना रहे हैं ताकि नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा की 40 फीसदी नौकरी हासिल करने में उनकी मदद हो सके। विधायक धीरेंद्र सिंह ने 29,560 करोड़ रुपये की लागत वाली हवाई अड्डा परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण के लिए किसानों से बातचीत में अहम मध्यस्थ की भूमिका निभाई। सिंह ने हाल ही में संपन्न हुए उप्र विधानसभा चुनाव में जेवर सीट से 1.17 लाख मत (50.53 फीसदी) पाकर जीत दर्ज की।

धीरेंद्र ने कहा, ‘‘मेरे विधानसभा क्षेत्र के लोगों ने मुझे चुनकर अपना काम पूरा किया और अब मुझे साबित करना है कि मैं आने वाले दिनों में अपने विधानसभा क्षेत्र के लिए क्या करूंगा।'' उन्होंने कहा कि जेवर ने पिछले पांच साल के दौरान निश्चित तौर पर कई मायने में प्रगति की है। उन्होंने कहा कि जेवर वही स्थान है जहां दो इंच जमीन के लिए बंदूकें चल जातीं थीं , लेकिन अब यह स्थान एशिया के सबसे बड़े हवाई अड्डे का घर है। इस दौरान उन्होंने कुख्यात भट्टा-परसौल प्रकरण को भी याद किया। 55 वर्षीय विधायक ने कहा कि जेवर मुख्यत: एक कृषि बाहुल्य क्षेत्र है इसलिए औद्योगीकरण की प्रक्रिया और कंपनियों के आगमन पर स्थानीय लोगों के समक्ष नौकरी पाना एक बड़ी चुनौती हो सकती है।

विधायक ने कहा, ‘‘हम इस स्थिति पर पहले से ही विचार कर रहे हैं और स्थानीय यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के माध्यम से इसके लिए व्यवस्था भी बनाई है, ताकि हर हाल में 40 फीसदी नौकरियां स्थानीय लोगों को मिल सकें।'' उन्होंने कहा कि जब भी किसी उद्यमी को जमीन आवंटित की जायेगी तो एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया जायेगा। यह भी कहा कि परियोजना हासिल करने पर ध्यान दे रहे हैं जैसे कि परिधान पार्क, जहां स्थानीय महिलाओं के लिए नौकरी की संभावन होगी। उन्होंने कहा इसके अलावा हवाई अड्डा से कई आनुषंगी नौकरियां उत्पन्न होंगी, जिसके लिए शुरुआती स्तर के प्रशिक्षण की जरूरत होगी। विधायक ने कहा कि उन्होंने ऐसे प्रशिक्षणों की पहचान की है और हवाई अड्डे का संचालन शुरू होने से पहले स्थानीय लोगों के लिए प्रशिक्षण का प्रबंधन किया जायेगा ताकि उन्हें यहां नौकरी मिल सके।

उन्होंने कहा कि यही उनकी योजना है। विधायक ने कहा कि जेवर में भविष्य में ‘‘पॉड टैक्सी'' और मेट्रो रेल संपर्क की सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा के लिए कई सड़कें होंगी और उच्च गति (हाई-स्पीड) ट्रेन से लखनऊ तक का सफर घटकर केवल दो घंटे का रह जायेगा। उन्होंने कहा कि इससे क्षेत्र के लोगों के विकास में मदद मिलेगी। विधायक ने कहा कि यदि हम जलमार्ग को छोड़ दें, तो इस हवाई अड्डे पर असाधारण सड़क, रेल और वायु संपर्क होगा। उन्होंने कहा कि जेवर में उड्डयन केंद्र बनने की क्षमता है। धीरेंद्र ने याद करते हुए कहा कि आजादी के बाद से जेवर में लड़कियों के लिए कोई स्नातक कॉलेज नहीं था, लेकिन राज्य सरकार ने ऐसे तीन कॉलेज की मंजूरी पिछले पांच साल में दी है। उन्होंने कहा कि दो स्नातक कॉलेज, एक सहशिक्षा संस्थान और एक केवल लड़कियों की शिक्षा के लिए, बनाए गये हैं। लड़कियों के लिए एक अन्य स्नातक कॉलेज को मंजूरी दी गई जहां जल्द ही पढ़ाई शुरू हो जाएगी।

धीरेंद्र ने कहा कि एक बड़े ट्रामा सेंटर और एक मल्टी-स्पेशियलिटी अस्पताल को भी मुख्यमंत्री ने मंजूरी दी है जिसे यमुना एक्सप्रेस-वे पर स्थापित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इसका मकसद यह सुनिश्चित करना है कि कोविड-19 महामारी के दौरान होने वाली अफरातफरी की पुनरावृत्ति नहीं हो सके। विधायक ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के जरिये जेवर वैश्विक मानचित्र पर उभरा है। उनका सपना पांच साल में इसे उत्तर प्रदेश का सबसे विकसित विधानसभा क्षेत्र बनाना है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static