उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के दूसरे चरण में 71 फीसद से ज्‍यादा मतदान

4/20/2021 3:45:51 PM

लखनऊ, 20 अप्रैल (भाषा) उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के दूसरे चरण के तहत सोमवार शाम छह बजे तक 71.56 फीसद मतदान हुआ। मंगलवार को एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई।
आधिकारिक जानकारी के अनुसार दूसरे चरण के 20 जिलों में पंचायत चुनाव में मतदान का प्रतिशत 71.56 रहा।
अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा कि दूसरे चरण में मतदान शांतिपूर्ण संपन्न हुआ और कुछ जगहों पर मतपत्र फाड़ने, मतपेटी में पानी डालने और लूटने जैसी छिटपुट घटनाएं भी हुईं।
राज्‍य निर्वाचन आयोग से मिली जानकारी के अनुसार बिजनौर में 73.30 प्रतिशत, गोंडा में 66.42, बदायूं में 73.57, आजमगढ़ में 63.59, लखीमपुर खीरी में 77.98, वाराणसी में 68, ललितपुर में 80.95, अमरोहा में 78.74, सुल्तानपुर में 64.50, मैनपुरी में 74.29, कन्नौज में 73.81, गौतम बुद्ध नगर में 75.32, मुजफ्फरनगर में 72.58, एटा में 73.24, प्रतापगढ़ में 60.06, इटावा में 74.22, चित्रकूट में 64.03, बागपत में 74.84 और लखनऊ में 72 प्रतिशत मतदान हुआ है।
दूसरे चरण का चुनाव इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और प्रधानमंत्री के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में भी मतदान हुआ। इनके अलावा दूसरे चरण में अमरोहा, आजमगढ़, इटावा, एटा, कन्नौज, गोंडा, गौतम बुद्ध नगर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, बदायूं, बागपत, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मैनपुरी, महराजगंज, लखीमपुर-खीरी, ललितपुर और सुल्तानपुर में भी वोट पड़े।
पंचायत चुनाव में पहली बार ऐसा हुआ जब मुलायम सिंह यादव मतदान नहीं कर सके।
वहीं, सुल्तानपुर की लंभुआ सीट से भाजपा विधायक देवमणि द्विवेदी ने कहा कि वह वोट नहीं डाल सके क्योंकि मतदाता सूची में उनका नाम शामिल नहीं था। द्विवेदी ने ''पीटीआई-भाषा'' को बताया कि उन्हें छोड़कर उनके परिवार के बाकी सभी सदस्यों का नाम मतदाता सूची में था, यहां तक की उनकी दिवंगत मां का नाम भी सूची में था।

आयोग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, दूसरे चरण में जिला पंचायत सदस्य की 787 सीटों के लिए 11,483 उम्मीदवार, क्षेत्र पंचायत सदस्य की 19,653 सीटों के लिए 85,232 प्रत्याशी, ग्राम प्रधान की 14,897 सीटों के लिए 1,21,906 उम्मीदवार तथा ग्राम पंचायत वार्ड की 1,87,781 सीटों के लिए 1,30,305 प्रत्याशी मैदान में थे।
गत 15 अप्रैल को हुए पंचायत चुनाव के पहले चरण में औसतन 71 फीसदी मतदान हुआ था। वर्ष 2015 में हुए पिछले पंचायत चुनाव में 72.11 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था।

अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने मंगलवार को बताया कि दूसरे चरण में 20 जिलों में शांतिपूर्ण मतदान हुआ लेकिन कुछ जगह छिटपुट घटनाएं हुईं जहां सख्त कार्रवाई की गई। मंगलवार को जारी एक बयान में कुमार ने बताया कि मैनपुरी के थाना औछा, एटा के जैथरा और राजा का रामपुर थाना क्षेत्र, प्रतापगढ़ के थाना नवाबगंज, थाना कंधई, कुंडा, बाघराय, महेशगंज और थाना लालगंज के मारपीट की घटनाएं सामने आई जहां पुलिस बल ने विधिक कार्रवाई की है। इसके अलावा अमरोहा, कन्नौज, सुल्तानपुर, आजमगढ़ और ललितपुर में भी मारपीट और हिंसक घटनाएं सामने आईं।
एक आधिकारिक जानकारी के अनुसार दूसरे चरण के पंचायत चुनाव में मतदान केंद्रों पर विवाद के बाद राज्‍य निर्वाचन आयोग ने पुनर्मतदान का फैसला किया है जिनमें अमरोहा जिले के दो बूथ, एटा जिले के दो बूथ, चित्रकूट का एक बूथ, प्रतापगढ़ के छह बूथ, लखीमपुर खीरी के दो बूथ, सुलतानपुर का एक बूथ और आजमगढ़ जिले के पांच बूथों पर पुनर्मतदान सुनिश्चित किया गया है।

यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

PTI News Agency

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static