स्कूल में कलमा पढ़ाए जाने पर मचा बवाल, स्कूल प्रबंधक ने कहा- हम स्कूल का नियम नहीं बदलेंगे

punjabkesari.in Monday, Aug 01, 2022 - 01:33 PM (IST)

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में एक स्कूल में उस वक्त बवाल हो गया जब प्रातः प्रेयर के दौरान बच्चों को कलमा पढ़ाया गया। इस दौरान बच्चों को कलमा पढ़ाने पर परिजनों ने हंगामा किया। हंगामे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिजनों को शांत कराया। जिलाधिकारी ने मामले में जांच के आदेश दिए है।

PunjabKesari
 

मामला है कि
यह मामला जिले के पी रोड स्थित फ्लोरेट्स इंटरनेशनल स्कूल का है। यहां, प्रेयर के दौरान बच्चों को प्रार्थना में कलमा पढ़ाया जाता है। कुछ पैरेंट्स ने इसका विरोध किया, लेकिन स्कूल प्रबंधक ने कहा कि हमारे स्कूल में शुरू से ही यह होता रहा है और आगे भी होता रहेगा। हम स्कूल का नियम नहीं बदलेंगे। पैरेंट्स अंकित गुप्ता ने बताया कि डेढ़ महीने पहले मेरी बच्ची ने बुक दिखाते हुए पूछा था की यह क्या लिखा हुआ है, जिसमें सभी धर्मों की प्राथनाएं के साथ कलमा भी लिखा था। उन्होंने बच्ची से पूछा कि यह तुम्हें रोज पढ़ाया जाता है तो बच्ची ने कहा कि हां। वहीं, अंकित गुप्ता ने कहा कि इस कलमे का मतलब है कि केवल खुदा है और उनके अलावा कोई नहीं है। इसलिए हम अपने बच्चे को इस स्कूल में पढ़ने नहीं देंगे।

PunjabKesari
 

हंगामे के बाद पहुंची पुलिस
स्कूल में हंगामे के बाद मौके पर पहुंचे सीसामऊ एसीपी निशंक शर्मा ने स्कूल प्रिंसिपल से बातचीत करने के बाद परिजनों को शांत कराया। एसीपी का कहना था कि ट्वीट हुआ था जिसमें लिखा था कि प्रार्थना के बाद मुस्लिम इबारत पढाई जाती है। जिसके बाद बच्चो व स्कूल प्रबंधन से बात की गयी है, उनके द्वारा अवगत कराया गया है की पिछले बारह साल से वो स्कूल चला रहे है और यहां पर चारों धर्मों से संबंधित प्रार्थना कराई जाती है। 

PunjabKesari
 

मैं आठ साल से पढ़ रही हुं कलमें- स्कूली छात्र-
वहीं, स्कूल की एक छात्रा ने बताया कि मैं आठ साल से यहां पर पढ़ रही हुं। कलमा पढ़ाया जाता रहा है। बच्ची का कहना है कि यह हमको याद तो हो गया है, लेकिन इसका मतलब आज तक नहीं बताया गया।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News

Recommended News

static