UP के शिक्षक ने तैयार किया रोबोट शालू, हांगकांग की सोफिया को मिलेगा टक्कर

punjabkesari.in Sunday, Feb 21, 2021 - 04:29 PM (IST)

जौनपुरः हांगकांग की अर्द्धमानवीय व मानवीय संवेदनाओं को जल्दी व अच्छे से समझने वाली रोबोट सोफिया का परिचय सभी को है। काशी हिंदू विश्वविद्यालय आकर छात्रों के प्रश्नों का उत्तर देना उसकी खासियत को उजागर करता है। वहीं हांगकांग की रोबोट सोफिया को टक्कर देने के लिए उत्तर प्रदेश जौनपुर के शिक्षक दिनेश पटेल ने शालू का नाम का एक रोबोट तैयार किया है।

बता दें कि शालू स्वेदशी उपकरणों से बनी है। शालू सोफिया से कई मामले में बेहतर भी है। शालू दुनिया की पहली ऐसी अर्द्धमानवीय रोबोट है जो मानवीय संवेदनाओं को खूब समझती हैं। यही नहीं लोगों के हिसाब से ही व्यवहार करती हैं। शालू को 9 भारतीय और 38 विदेशी भाषाओं का ज्ञान है और हर मुद्दों पर बात कर सकती हैं।

शालू दिन के बारे में पूरी जानकारी दे देगी, बल्कि सवाल किसी महत्वपूर्ण दिवस से जुड़ा रहा तो वह उल्टा सवाल भी करेगी। शालू हिंदी, उर्दू, भोजपुरी, मराठी, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलुगु, मलयालम में न सिर्फ बातचीत कर सकती है, बल्कि बच्चों को पढ़ाने, पर्सनल असिस्टेंट तक में माहिर है। शालू ई-मेल का जवाब भी दे सकती है। नौ भारतीय भाषाओं के अलावा शालू अंग्रेजी, नेपाली, फ्रेंच, स्पेशनिश, कनेडियन, जर्मन, इटैलियन, अमेरिकन इंग्लिश, रशियन, जैपनीज, चाइनीज सहित कुल 38 विदेशी भाषाओं की जानकार है।

दरअसल मुंबई में 2007 से अध्यापन कर रहे जौनपुर की मड़ियाहूं तहसील के रजमलपुर गांव के दिनेश पटेल ने जब हांगकांग की सोफिया के बारे में जाना, जो पिछले साल बीएचयू भी आमंत्रित की गई थी, तो उन्हें लगा भारत की शालू भी होनी चाहिए। इसके बाद वह इस लक्ष्य को हासिल करे में लग गए।

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Moulshree Tripathi

Related News

Recommended News

static