जौनपुर के भदोही गांव में मारपीट और आगजनी में वांछित 25 हजार रूपये का इनामी बदमाश गिरफ्तार

8/11/2020 5:10:05 PM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स(एसटीएफ) ने मंगलवार को जौनपुर से 25 हजार रूपये के इनामी बदमाश को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ सूत्रों ने यहां बताया कि एसटीएफ टीम ने आज जौनपुर में खेतासराय क्षेत्र के गुरारी बाजार से रूपये 25 हजार का पुरस्कार घोषित वांछित अपराधी दानिश को गिरफ्तार किया है। उसके खिलाफ जौनपुर के सरायख्वाजा क्षेत्रा के भदेही गांव में अनुसूचित जाति की बस्ती में घुसकर लोगों के साथ मारपीट, तोड़फोड़ करते हुये घरों में आग लगा देने का आरोप है। इस कांड से साम्प्रदायिक तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गयी थी। उन्होंने आरोपी बदमाश जौनपुर में सरॉयख्वाजा क्षेत्र के भेदेठी का निवासी है। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों वांछित पुरस्कार घोषित अपराधियों के सक्रिय होकर आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिये जाने की सूचनायें प्राप्त हो रहीं थी। अभिसूचना संकलन के दौरान आज एसटीएफ फील्ड इकाई, वाराणसी को विश्वस्त सूत्रों के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई कि सरायख्वाजा का हिस्ट्रीशीटर एवं 25 हजार रूपये का पुरस्कार घोषित कुख्यात पशु तस्कर दानिश थाना खेतासराय क्षेत्र के गुरारी बाजार के पास अपने किसी साथी के आने का इन्तजार कर रहा है। सूचना पर एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई वाराणसी के निरीक्षक अनिल सिंह, उनि राघवेन्द्र मिश्रा, हेकां अरविन्द पाठक, का0 अजय जायसवाल की एक टीम मुखबिर द्वारा बताये गये स्थान पर पहुंचकर 25 हजार रूपये के पुरस्कार घोषित अपराधी दानिश को आवश्यक बल प्रयोग कर गिरफ्तार कर लिया। 

एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि जौनपुर के सरायख्वाजा क्षेत्रा के भदेही गांव में अनुसूचित जाति की बस्ती में घुसकर लोगों के साथ मारपीट, तोडफोड करते हुये घरों में आग लगा दी गयी थी। जिससे साम्प्रदायिक तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गयी थी। कानून व्यवस्था की गंभीर स्थित उत्पन्न हो गयी थी। इस संबंध में थाना सरायख्वाजा में उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। इस मामले में एससी/एसटी एक्ट व तीन लोक सम्पत्ति विक्षित निवारण अधिनियम व महामारी अधिनियम व 51 आपदा प्रबन्धन अधिनियम कुल 57 व्यक्तियों के विरूद्ध पंजीकृत हुआ था। , जिसकी विवेचना के दौरान स्थानीय पुलिस द्वारा पाया गया था कि उक्त साम्प्रदायिक घटना में गांव के हिस्ट्रीशीटर दानिश की प्रमुख भूमिका है, जो घटना के बाद से ही फरार चल रहा था, जिसपर 25 हजार रूपये का पुरस्कार घोषित किया गया था।

गिरफ्तार आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह पूर्वांचल के पशु तस्करों के साथ मिलकर काफी समय से पशु तस्करी का काम करता है, जिसमें वह जौनपुर के थाना मडियाहॅूं से दो बार एवं थाना खेतासराय से एक बार जेल भी जा चुका है। गत नौ जुलाई को गांव में आम तोड़ने को लेकर विवाद हो गया था, जिसकी जानकारी मिलने पर वह अपने साथियों के साथ अनुसूचित जाति की बस्ती में घुसकर अनुसूचित जाति के लोगों को बुरी तरह से मारते पीटते हुये बस्ती में आग लगा कर मौके से भाग गया था। इसी के विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत हुआ था और 25 हजार रूपये का पुरस्कार घोषित हो गया, तभी से वह फरार चल रहा था। आज अपने एक साथी से मिलने के लिये गुरारी बाजार आया था। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

 

 


Edited By

Ramkesh

Related News