मनीष हत्याकांड: जेल से ऑनलाइन हुई आरोपियों की पेशी, जेएन सिंह एंड कंपनी की 14 दिन की न्यायिक हिरासत बढ़ी

punjabkesari.in Thursday, Nov 18, 2021 - 12:55 PM (IST)

गोरखपुरः कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता की होटल में संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत का मामला सीबीआई को सौंपा गया है। इस मामले में सीबीआई पहली बार कोर्ट पहुंची और सभी आरोपियों के न्यायिक हिरासत बढ़ाने की मांग की। सीजेएम न्यायालय ने आरोपी जेएन समेत 6 सिंह पुलिसकर्मियों की 14 दिन की ज्यूडिशियल रिमांड बढ़ाने की मंजूरी दे दी।
PunjabKesari
गोरखपुर के दीवानी न्‍यायालय के सीजेएम कोर्ट में बुधवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्‍यम से आरोपियों की पेशी हुई, जिसमें कानपुर एसआईटी के द्वारा तीसरी बार लिया गया 14 दिन की ज्यूडिशियल रिमांड बुधवार को यानी आज पूरी हो रही थी। इसके पहले ही सीजेएम ज्योत्सना यादव की कोर्ट में अर्जी दाखिल करने पहुंची सीबीआई की टीम के इंस्पेक्टर विवेक श्रीवास्तव ने 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा बढ़ाने के लिए आवेदन किया। जिसे कोर्ट ने स्वीकार करते हुए आरोपियों की 14 दिन की ज्यूडिशियल कस्टडी बढ़ा दी।
PunjabKesari
बीआई मनीष हत्याकांड मामले के तह में जाने के लिए पिछले एक हफ्ते से गोरखपुर में है और घटना की छानबीन कर रही है। सीबीआई इस मामले में कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहती है। इसलिए एक-एक साक्ष्य पर गहन अध्ययन कर रही है। इस घटना से जुड़े सभी लोगों से बारीकी से पूछताछ कर रही है।
PunjabKesari
वहीं, आरोपियों के अधिवक्‍ता पीके दुबे ने बताया कि चार्जशीट यही पर फाइल हो जाने के बाद ट्रायल दिल्ली शिफ्ट होगा। सीबीआई को पहली रिमांड से 90 दिन के भीतर चार्जशीट फाइल करनी होती है। 90 दिन पूरा नहीं हुआ है। सीबीआई के पास अभी पूरा समय है। सीबीआई लखनऊ की टीम जांच कर रही है। जांच करके यहां चार्जशीट फाइल करेगी। उसके बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्‍ली ट्रायल ट्रांसफर होगा। आरोपियों को अभी दिल्ली ले जाने का कोई आदेश नहीं आया है।   
PunjabKesari
जानिए क्या है मामला? 
गौरतलब हैं कि सोमवार रात रामगढ़ताल थाना क्षेत्र में एक होटल में कानपुर निवासी 36 वर्षीय रियल एस्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता अपने 2 दोस्तों प्रदीप और हरी चौहान के साथ ठहरे थे। देर रात पुलिस होटल में निरीक्षण के लिए पहुंची थी। निरीक्षण के दौरान यह पाया गया कि तीन लोग गोरखपुर के सिकरीगंज स्थित महादेवा बाजार के निवासी चंदन सैनी के पहचान पत्र के आधार पर एक कमरे में ठहरे हुए हैं। संदेह होने पर पूछताछ के दौरान कथित रूप से पुलिस द्वारा पिटाई के बाद घायल मनीष की संदिग्ध हालात में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई थी।
PunjabKesari
मनीष की पत्नी मीनाक्षी ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाते हुए कहा कि इसी वजह से उनके पति की मृत्यु हुई है। हालांकि, पुलिस ने इस आरोप से इनकार करते हुए कहा कि मनीष नशे की हालत में था और पूछताछ के दौरान जमीन पर गिरने से उसके सिर में चोट आ गई थी, जिससे उसकी मृत्यु हुई। मनीष के साथ कमरे में ठहरे उसके दोस्तों ने बताया कि वे लोग गोरखपुर के रहने वाले कारोबारी चंदन सैनी के बुलावे पर आए थे। इस मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) ने रामगढ़ताल के थाना प्रभारी जेएन सिंह और फलमंडी थाना प्रभारी अक्षय मिश्रा समेत छह पुलिसकर्मी आरोपी हैं। फिलहाल इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static