अखिलेश ने कहा- BJP को चुनाव चिह्न ''कमल'' से बदलकर ''Bulldozer'' कर लेना चाहिए

9/14/2021 6:21:49 PM

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अयोध्या में विकास के नाम पर मकान ढह जाने से परेशान लोगों का दर्द साझा करते हुए मंगलवार को सत्तारूढ़ भाजपा को अपना चुनाव निशान 'कमल' से बदलकर 'बुलडोजर' कर लेने की सलाह दी।

सपा प्रमुख ने मंगलवार को यहां संवाददाता सम्मेलन के दौरान राज्य सरकार पर मनमाने तरीके से काम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि "सरकार को अपना चुनाव चिन्ह बुलडोजर रख लेना चाहिये। इस सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि उनके पास एक बुलडोजर है। इसमें एक स्टीयरिंग होता है, अभी यह इधर चल रहा है और एक बार स्टीयरिंग की दिशा बदल जाने के बाद यह दूसरी दिशा में जाएगा। सरकार मनमानी कर रही है, कानून नहीं मान रही है।'' अखिलेश अयोध्या निवासियों का हवाला देते हुए बोल रहे थे कि कैसे उनके घर को प्रशासन द्वारा उजाड़ दिया गया था। अयोध्या में अवैध रूप से बनाई गई इमारतों को ढहाने के राज्य सरकार के दावों पर प्रहार करते हुए अखिलेश ने कहा ऐसे अनेक पुराने भवन हैं जिनका नक्शा पास नहीं है। उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री आवास का उदाहरण भी दिया।

पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया कि अगर आगामी विधानसभा चुनाव के बाद उनकी सरकार बनती है तो जितने भी लोगों के मकान ढह गए हैं उन्हें नए मकान देकर उनके आत्मसम्मान की रक्षा की जाएगी। अखिलेश ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार कानून के मुताबिक काम नहीं कर रही है और उसने राजनीति के सिद्धांतों को ताक पर रख दिया है। उन्होंने चेतावनी दी कि उनकी पार्टी ऐसे अधिकारियों की सूची तैयार कर रही है जो कानून के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने के बाद अपने भाषण में वर्ष 2017 से पहले रही सरकार में प्रदेश की कानून व्यवस्था के बारे में की गई टिप्पणी की तरफ ध्यान दिलाए जाने पर अखिलेश ने कहा, "उन्हें गृह विभाग या डायल-100 से जाकर पूछना चाहिए कि आखिर कौन अपराध बढ़ा रहा है या फिर वह मुख्यमंत्री को इस बात का अध्ययन करने को कहें कि प्रदेश में टॉप माफिया कौन हैं।'' सपा अध्यक्ष ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री को राष्ट्रीय अपराध अभिलेख ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट भी देखनी चाहिए कि किस राज्य को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की तरफ से सबसे ज्यादा नोटिस भेजे गये हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए अखिलेश ने कहा, "यह कैसे मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपने ऊपर दर्ज हुए मुकदमे खुद ही वापस ले लिये। भाजपा एक विश्वविद्यालय स्थापित करने जा रही है। यह अच्छी बात है लेकिन यह पार्टी पहले से ही झूठ बोलने का सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षण केंद्र चला रही है।'' अखिलेश ने भाजपा पर अपने ही वरिष्ठ नेताओं का सम्मान करने में नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए कहा कि 2019 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर बनने वाले विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया गया था लेकिन अब जाकर देखा जाए कि उसकी क्या हालत है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Recommended News

static