आंखों के सामने विशाल को मार दिया... भाई के छलके आंसू तो BJP-MLA ने 24 घंटे में जिंदा या मुर्दा गिरफ्तारी का दिया अल्टीमेटम

punjabkesari.in Saturday, Nov 13, 2021 - 06:23 PM (IST)

चंदौली: छठ पूजा के बधाई संदेश के पोस्टर लगाने के बाद हुए विवाद को सुलह समझौते से समाप्त होने के बावजूद आक्रोश इस कदर था कि घर से बुलाकर एक युवक की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है और मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की जानकारी होते ही मौके पर पहुंची भाजपा विधायक साधना सिंह ने जहां परिजनों को ढांढस बंधाया वहीं जिला प्रशासन को अल्टीमेटम दिया कि 24 घंटे में जिंदा या मुर्दा उन्हें आरोपियों की गिरफ्तारी चाहिए। जिस पर एसपी और डीएम ने विधायक को उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत कराया। इस दौरान जिला प्रशासन द्वारा मृतक विशाल पासवान के परिजनों को ₹4 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की गई।

PunjabKesari
‘DM साहब- सपा की गुंडई खत्म करिए और जेसीबी लगाईए’
दरअसल, अलीनगर थाना क्षेत्र के सिकटिया गांव में 25 वर्षीय विशाल पासवान को घर से बुलाकर घेरकर पीट-पीटकर उसकी हत्या कर दी गई। मामले की जानकारी होते ही पुलिस प्रशासन डीएम और एसपी के साथ विधायक साधना सिंह भी मौके पर पहुंची। विधायक को देखकर परिजन आक्रोशित हो गए और फूट-फूट कर रोने लगे। इस दौरान परिजनों ने पूरे घटनाक्रम से विधायक को अवगत कराया। निर्मम हत्या के बात सुनकर विधायक भी आक्रोशित हो गई। इस दौरान विधायक साधना सिंह ने कहा कि ये समाजवादी के गुंडे बने हुए हैं, अगले 20 साल तक सपा की सरकार नहीं आनी है। मुझे यहां 50 पत्थर लगे थे। मुझे उम्मीद नहीं थी की हत्या हो जाएगी। उन्होंने डीएम साहब से कहा कि सपा की गुंडई खत्म करिए और जेसीबी लगाई। जेसे हो करिए नहीं तो कहिए मैं सीएम साहब से बात करूँ। महाराज जी अभी बनारस में है हमारे गृह मंत्री जी बनारस में है। डॉ महेंद्र नाथ पांडे जिले में आ रहे हैं। इस पर कड़ी कार्रवाई करें आप लोग। हम लोग बर्दाश्त नहीं कर सकते।

यही सपा के गुंडे दिखाए थे मुख्यमंत्री योगी जी को काले झंडे: विधायक
विधायक साधना सिंह ने कहा हमको डीएम साहब और कप्तान साहब आप दोनों लोग बताइए कितने घंटे में मुलजिम बरामद होगा। यह भारतीय जनता पार्टी की सरकार है योगी जी की के नेतृत्व में हम सबको भरोसा है। उन्होंने कहा कि ये वही सपा के गुंडे है जिन्होंने मुख्यमंत्री योगी जी को काले झंडे दिखाए थे। कहते थे कि जब हमने योगी को काले झंडे दिखा दिए तो तुम लोग हमारे सामने क्या हो।
PunjabKesari
वहीं मृतक विशाल पासवान के परिजनों की तहरीर पर अलीनगर थाने में 10 नामजद और कुछ अज्ञात के खिलाफ धारा 147, 148, 149, 302 और 120 बी के साथ ही अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं जिला अधिकारी संजीव सिंह ने घटना को दुखद बताया और कहा कि सुसंगत धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली गयी है और पोस्टमार्टम की कार्रवाई की जा रही है। शासन की ओर से ₹4 लाख की तत्काल सहायता परिवार को दी जा रही।

PunjabKesari
एसपी अंकुर अग्रवाल ने बताया की अलीनगर में सुबह एक मर्डर की सूचना थी। जिसमें डीएम साहब द्वारा और मेरे द्वारा मौके का निरीक्षण किया गया था। इसमें जो मुख्य अभियुक्त कमला यादव है जिनको पुलिस ने अरेस्ट कर लिया। जो वादी है जिनके बेटे की मृत्यु हुई उनके द्वारा बताया गया था कि लगभग सुबह 3:51 मिनट पर कमला यादव द्वारा फोन किया गया था। जिस कारण उनके बेटे वहां गए जहां पर यह घटना कारित की गई थी औऱ मौके पर कमला यादव के द्वारा और लोगों के द्वारा घटना की गई।

PunjabKesari
वहीं मृतक विशाल पासवान के भाई विवेक कुमार ने बताया कि मैं सो रहा था तब सुबह 5 बजकर कुछ मिनट पर मुझे कमला यादव के बेटे सचिन यादव ने फोन किया और बोला चाचा कहां है आप। आप चौराहे पर आईये आपको पापा बुला रहे हैं। हम बोले ठीक है बेटा मैं आ रहा हूं। जब मैं चौराहे पर जा रहा था तो रास्ते मे मुझे मेरे भाई शेरू मिले। जैसे मैं वहां पहुंचा तो देखा कि मेरे छोटे भाई को मार चुके थे। घटना मेरे आँख के सामने हुआ। हम लोग जान बचाकर दो-तीन लोग किसी तरह से भागे। काफी संख्या में लोग आए हुए थे। हम चारों भाई वहां से जान बचा कर भागे और चिल्लाने लगे तो गांव वाले वहां इकट्ठा हुए। तब तक हमारे भाई को लोग मार चुके थे।

PunjabKesari
मृतक के चाचा प्रदीप कुमार ने बताया हम लोगों के आंख के सामने विशाल को दरिंदों ने मार दिया। हम लोग भी वहां से न भागते तो जान से मार दिया जाता। वहां पर राजू यादव थे, कमला यादव के लड़के थे लखन यादव थे। यह सब लोग विशाल को मार रहे थे। सभी के पास हथियार भी थे। प्रदीप कुमार ने बताया कि 4 दिन पहले बैनर को लेकर झगड़ा हुआ था। वहां पर समझौता हो गया तो थाने में समझौता हो गया था। वहां गाड़ी टूटा तो उनको पैसा देकर उसमे सुलह समझौता करा दिया था। सुलह समझौता के बाद भी बबलू पासवान के दुकान पर आग लगा दिया। हम लोग न्याय चाहते हैं।

  


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static