पंचायत चुनाव से पहले वोटर्स को लुभाने के लिए BJP भुना रही सुहेलदेव का नाम, ये ‘चुनावी स्टंटः राजभर

2/15/2021 8:48:45 AM

लखनऊः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आगामी 16 फरवरी को महाराजा सुहेलदेव की जयंती पर बहराइच में विकास कार्यों का डिजिटल तरीके से शिलान्यास करेंगे। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) ने इसे 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर ‘स्टंट’ करार देते हुए रविवार को कहा कि पंचायत चुनाव से पहले मतदाताओं को लुभाने के लिए भाजपा महाराजा सुहेलदेव का नाम भुनाने की कोशिश में है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये मंगलवार को बहराइच की चित्‍तौरा झील के विकास कार्यों का शिलान्‍यास करेंगे। यह कार्यक्रम महाराजा सुह‍ेलदेव की जयंती के उपलक्ष्‍य में उत्‍तर प्रदेश के बहराइच जिले में आयोजित किया जा रहा है। इस मौके पर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ भी मौजूद रहेंगे। इस परियोजना में महाराजा सुहेलदेव की एक घोड़े पर सवार प्रतिमा की स्‍थापना, कैफेटेरिया, अतिथि गृह और बच्‍चों के पार्क जैसी विभिन्‍न पर्यटक सुविधाओं को शामिल किया गया है।

उत्तर प्रदेश में कभी भारतीय जनता पार्टी की सरकार में साझीदार रही सुभासपा ने इसे किसान आंदोलन के कारण भाजपा की जमीन खिसकने के मद्देनजर राजभर वोटों को लुभाने का उसका चुनावी ‘स्टंट’ करार दिया है। सुभासपा के अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि आने वाले महीनों में प्रदेश में पंचायत चुनाव होने वाले हैं और उसके बाद विधानसभा चुनाव होंगे। उन्होंने दावा किया, ‘‘प्रदेश के 18 जिलों के जाट किसानों ने भाजपा का साथ छोड़ दिया है इसलिए इस पार्टी ने अब राज्य के पूर्वी हिस्सों पर अपनी नजरें गड़ा दी है, जहां राजभर मतदाताओं का दबदबा है। भाजपा सुहेलदेव के नाम पर वोट की खेती करना चाहती है।

उन्होंने कहा कि भारत की महान विभूतियों के सम्मान में आमतौर पर डाक टिकट दिल्ली में जारी होते हैं लेकिन महाराजा सुहेलदेव राजभर के नाम का डाक टिकट गाजीपुर में जारी किया जाता है ताकि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को पूरी तरह खत्म किया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सुहेलदेव नमन दिवस, सुहेलदेव सम्मान दिवस और जयंती के नाम पर पूर्वांचल में करीब 20 रैलियां की लेकिन कभी महाराजा सुहेलदेव के नाम के आगे राजभर नहीं लगाया।

 


Content Writer

Moulshree Tripathi

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static