राशिद अल्वी का विवादित बयान, कहा- 'जय श्री राम' का नारा लगाने वाले मुनि नहीं, कालनेमि राक्षस हैं

punjabkesari.in Friday, Nov 12, 2021 - 12:28 PM (IST)

संभल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद की अयोध्या पर विवादित किताब के बाद अब राशिद अल्वी ने भी रामभक्तों पर बड़ा विवादित बयान दिया है। संभल के ऐचोड़ा कम्बोह में चल रहे  पांच दिवसीय कल्कि महोत्सव में पहुंचे कांग्रेसी नेता राशिद अल्वी ने जय श्री राम का नारा लगाने वालों की तुलना रामायण के कालनेमि मायावी राक्षस से की है। उन्होंने कहा है कि रामराज्य और जय श्रीराम का नारा लगाने वाले मुनि नहीं, बल्कि रामायण काल के कालनेमि राक्षस हैं।

कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने कहा कि हम भी चाहते हैं कि इस देश में रामराज्य हो लेकिन जिस राज्य में बकरी और शेर एक घाट पर पानी पीते हो वहां नफरत कैसे हो सकती है। राशिद अल्वी ने बीजेपी की तरफ इशारा करते हुए कहा कि इस देश में जय श्री राम का नारा लगाकर लोगों को जो लोग गुमराह करते हैं ऐसे लोगों से सावधान रहना चाहिए। वहीं राशिद अल्वी ने इशारों इशारों में बीजेपी पर निशाना साधते हुए जय श्री राम का नारा लगाने बालों की तुलना रामायण के कालनेमि राक्षस से करते हुए कहा कि जब लक्ष्मण मूर्छित होकर गिरे थे तो वैध के कहने पर हनुमान जी हिमालय से संजीवनी बूटी लेने गए थे। उस समय राक्षस नीचे बैठकर जय श्री राम का नारा लगा रहा था। जय श्री राम का नारा सुनकर हनुमान जी नीचे उतर आए थे।

राक्षस ने हनुमान जी का कीमती वक्त खराब करने के लिए जय श्री राम का नारा लगाने से पहले स्नान करने भेज दिया था। तभी अप्सरा ने हनुमान जी को बताया था कि तुम्हें स्नान करने के लिए भेजने वाला कोई मुनि नहीं है बल्कि घोर राक्षस है। इसलिए सभी को समझना चाहिए कि जय श्री राम का नारा लगाने वाले कोई मुनि नहीं है बल्कि वह राक्षस है जिन से हमें होशियार रहना है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static