बस्ती एक्सीडेंट में डॉक्टर की पत्नी, बेटे-बहू की मौत: होश में आते ही घायल पोता-पोती ने पूछा- मम्मी-पापा कहां हैं...बुलाओ न

punjabkesari.in Friday, Jun 17, 2022 - 01:41 PM (IST)

बस्ती: यूपी बस्ती-अयोध्या फोरलेन पर गुरुवार की रात भीषण सड़क हादसा हो गया है। जहां बेकाबू कार आगे जा रहे अज्ञात भारी वाहन में पीछे से जा घुसी। भीषण हादसे में कार सवार एक डॉक्‍टर की पत्‍नी और बेटे-बहू समेत 4 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। इस हादसे में डॉक्‍टर का पोता-पोती समेत तीन लोग बुरी तरह घायल हो गए। तीनों को जिला अस्पताल बस्ती से गोरखपुर रेफर कर दिया गया।

हादसे में गई मां-बाप की जान...घायल बच्चे बार-बार पूछ रहे- कहां है मम्मी-पापा?
दोनों घायल बच्चों का गोरखपुर के निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। इस बीच चाचा को सामने देखते ही घायल बच्चे बोल पड़े कि मम्मी-पापा कहां हैं, उनको भी तो चोट लगी थी। बुलाओ न...। ये नजारा देखकर हर कोई भावुक हो गया। इस सवाल का सही जवाब तो चाचा के पास नहीं था। बस यही बताया कि वे भी ठीक हैं, इलाज चल रहा है। अभी नहीं मिल सकते। यही कहकर कुछ देर के लिए तो उन्हें चुप करा दिया गया, लेकिन थोड़ी देर बाद अस्पताल में भर्ती बच्चे मां-बाप के पास जाने की जिद करने लगे। किसी तरह से परिवार वाले दोनों को समझाया।
PunjabKesari
गोरखपुर जिले के शाहपुर थानांतर्गत पादरी बाजार चौराहे पर स्थित श्रीरामनगर कालोनी निवासी रवि कुमार श्रीवास्तव (45) फतेहपुर में कोका कोला कंपनी में रिजनल सेल्स मैनेजर पद पर कार्यरत थे। गुरुवार को वह कार से पत्नी वंदना श्रीवास्तव (40), बेटा प्रणव (14), बेटी प्रज्ञा उर्फ वैष्णवी (7), पिता डॉ. ओम नारायण श्रीवास्तव (70) और मां रत्ना श्रीवास्तव (65) के साथ गोरखपुर आ रहे थे। कार फतेहपुर जिले के शादीपुर इस्माइलगंज निवासी ड्राइवर रवि कुमार (40) पुत्र रामगुलाम चला रहा था।

कार की बॉडी काटकर मृत ड्राइवj का शव निकाला गया बाहर
रात करीब साढ़े बारह बजे कप्तानगंज थाना क्षेत्र फोरलेन पर खजुआ के पास पहुंचे थे कि बेकाबू कार अचानक आगे जा रहे किसी भारी वाहन से भिड़ गई। टक्कर की जोरदार आवाज और चीख-पुकार सुन किनारे पर मौजूद ढाबा वाले और राहगीर मदद को दौड़ पड़े। कुछ ही देर में कप्तानगंज पुलिस भी पहुंच गई। बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी कार से सभी को बाहर निकाला गया। जिला अस्पताल में चिकित्सकों ने रवि कुमार श्रीवास्तव, पत्नी वंदना, मां रत्ना श्रीवास्तव को मृत घोषित कर दिया। कार की बॉडी काटकर मृत ड्राइवर रवि कुमार का शव बाहर निकाला गया।
PunjabKesari
73 वर्ष दादा के कंधों पर आया मासूम बच्चों का भार
ऐसे में प्रणव और मासूम वैष्णवी के सिर से माता-पिता का साया छिन गया। वे गंभीर रूप से अस्पताल में भर्ती हैं। 73 वर्ष की उम्र में ओमनारायण से उनकी पत्नी का साथ छूट गया और बेटा व बहू भी नहीं रहे। मासूम बच्चों के जीवन का भार उनके बुजुर्ग कंधों पर आ गया।


 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News

Recommended News

static