CM योगी के निर्देश- आंगनबाड़ी कर्मियों के 20 हजार पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया 6 माह में पूरी करें

punjabkesari.in Wednesday, Apr 20, 2022 - 09:47 AM (IST)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में आंगनबाढ़ी कर्मियों और सहायिकाओं के 20 हजार पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया अगले छह माह में पूरी कराने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिये हैं। स्वास्थ्य मंत्री ब्रजेश पाठक द्वारा योगी के समक्ष चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े विभागों की आगामी कार्ययोजना से जुड़े प्रस्तुतिकरण के दौरान ये निर्देश दिये गये। इसमें उन्होंने कहा कि सभी आंगनबाड़ी कर्मियों और स्वास्थ्य सखियों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ दिलाया जाये। प्रत्येक कर्मी व सहायिका को गणवेश के रूप में दो-दो साड़ी दी जाए। इनके क्षमता आधारित मूल्यांकन और सर्टिफिकेशन के संबंध में भी विचार किया जाए।

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने आंगनबाड़ी केंद्रों में 03 से 06 वर्ष आयु के बच्चों को गर्म पका हुआ खाना देने के साथ अधिक पोषण युक्त मॉर्निंग स्नैक्स (दूध-फल आदि) भी देने की बात कही। उन्होंने निर्देश दिया कि हर आंगनबाड़ी का अपना भवन हो। प्रदेश में कम से कम 5000 नये आंगनबाड़ी केंद्रों का निर्माण कराया जाये। योगी ने चिकित्सा सेवाओं के सुचारू संचालन के लिए डॉक्टरों और नर्सों की पर्याप्त तैनाती पर जोर देते हुए कहा कि एक डॉक्टर पर एक नर्स की मौजूदगी का अनुपात हो और इसके लिये आवश्यकतानुसार पद सृजन कर योग्य प्रोफेशनल का चयन किया जाये। उन्होंने सभी विधानसभा क्षेत्रों में 100 शैय्या के चिकित्सालय की उपलब्धता सुनिश्चित कराने की विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर चरणबद्ध रूप से इसे क्रियान्वित करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि विगत 05 वर्षों में 5000 स्वास्थ्य उपकेंद्रों की स्थापना का कार्य हुआ है। अब सरकार का लक्ष्य आगामी 05 वर्ष में 10,000 नए उपकेंद्रों की स्थापना करना है।

योगी ने आगामी 100 दिनों के भीतर राज्य कर्मचारियों एवं पेंशनर्स को कैशलेस चिकित्सा सुविधा से लाभांवित करने, हर जनपद में मुफ्त डायलिसिस की सुविधा सभी जनपदों में अगले दो वर्ष में उपलब्ध कराने को कहा। इसके साथ ही उन्होंने 108 एम्बुलेंस सेवा को और व्यवस्थित करने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि एम्बुलेंस के रिस्पॉन्स टाइम को और कम किया करके इस सेवा के संचालन का विकेंद्रीकरण करने पर विचार किया जाये।

उन्होंने अगले 100 दिनों में कम से कम 800 नई एम्बुलेस अपने बेड़े में बढ़ाने और एएलएस की संख्या को 01 वर्ष में 250 से बढ़ाकर 375 करने और फिर 500 तक ले जाने के प्रयास करने को कहा। मुख्यमंत्री ने पैरामेडिकल स्टाफ को स्वास्थ्य व्यवस्था की रीढ़ बताते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा अगले छह माह में प्रदेश में 10 हजार पैरामेडिकल स्टाफ की नियुक्ति की कार्यवाही की जाये। नियुक्ति प्रक्रिया उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन बोडर् के माध्यम से पूर्ण शुचिता के साथ कराई जाये। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News

Recommended News

static