DNA टेस्ट के लिए पुलिस ने कब्र से निकलवाया नवजात का शव, ये है पूरा मामला

punjabkesari.in Saturday, May 29, 2021 - 07:22 PM (IST)

गोण्डाः उत्तर प्रदेश गोण्डा में एक महिला द्वारा नवजात शिशु को झाड़ियों में दफनाए जाने का मामला प्रकाश में आने के बाद गांव में हड़कंप मच गया है । बताया जा रहा है कि महिला द्वारा कुछ महीनों पूर्व गांव के एक व्यक्ति पर दुराचार का मुकदमा पंजीकृत कराया गया था । आरोपी अभी जेल में ही है । महिला द्वारा 3 दिनों पूर्व बच्चे को जन्म दिए जाने के बाद आरोपी व उनके परिजन डीएनए टेस्ट कराए जाने की मांग कर रहे थे । उनका आरोप है कि डीएनए टेस्ट से बचने के लिए नवजात की गला दबाकर हत्या किए जाने के बाद शव को झाड़ियों में दफना दिया गया ।

बता दें कि मामला मोतीगंज थाना क्षेत्र के एक गांव का है। जहां पर 3 दिनों पूर्व एक महिला ने नवजात बच्चे को जन्म दिया था । उसके बाद से ही दुराचार के आरोपी ने बच्चे का डीएनए टेस्ट कराने जाने की मांग उच्चाधिकारियों से की थी । इसी बीच अचानक नवजात बच्चे की अचानक मौत हो गई । परिजनों ने शव को दफना दिया ।

वहीं इस संबंध में उप जिलाधिकारी सदर कुलदीप सिंह ने शुक्रवार की देर शाम बताया की महिला ने  बच्चे को जन्म दिया था । बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ था।घर ले गए दूसरे दिन अचानक उसकी तबीयत खराब हुई और अस्पताल लाते समय उसकी मौत हो गई । फिर गांव की रीति रिवाज के अनुसार शव  को दफन कर दिया गया । आरोपी का कहना है यदि बच्चा उसका है और डी एन ए जांच नहीं होती है तो ऐसे में आरोप सिद्ध हो जाएगा । जिस पर थानाध्यक्ष ने जिलाधिकारी से दफनाए गए शव का पोस्टमार्टम कराए जाने की अनुमति मांगी थी । मामले में डीएम ने नायब तहसीलदार सदर पुष्कर मिश्रा को मजिस्ट्रेट नामित किया था । पुलिस व मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में कब्र से शव को निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है । आगे जो भी रिपोर्ट आती है उस हिसाब से पुलिस कार्यवाही करेगी

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Moulshree Tripathi

Related News

Recommended News

static