कोरोना पॉजिटिव फेमस कवि ‘बेचैन’ को नहीं मिला वेंटिलेटर, कुमार विश्‍वास के ट्वीट के बाद मिली बड़ी मदद

4/15/2021 11:39:48 AM

लखनऊः कोरोना संकट अपने विकराल रुप में देश भर में संक्रमण फैला रहा है। अस्पतालों में बेड फूल होने की वजह से गेट पर ही मरीज दम तोड़ दे रहे हैं। जिधर देखो उधर चीख, दम तोड़ती निराशाएं और कोरोना ही कोरोना है। ऐसे में कोरोना पॉजिटिव हिंदी साहित्य के प्रसिद्ध कवि डॉक्टर कुंवर बैचेन को भी वेंटिलेटर नहीं मिला। वहीं इस बाबत कुमार विश्‍वास के एक ट्वीट के बाद उन्हें बड़ी मदद मिली है।
PunjabKesari
बता दें कि मशहूर कवि बेचैन की हालत गंभीर हो गई है। ऑक्‍सीजन लेवल 77 तक जा पहुंचा लेकिन दिल्‍ली के एक निजी अस्‍पताल में भर्ती कुंवर बैचेन को इस हालत में भी वेंटिलेटर नहीं मिल पा रहा था। तब हिंदी जगत के दूसरे बड़े कवि डॉ.कुमार विश्‍वास ने ट्वीट कर उनके लिए मदद मांगी। इस ट्वीट के बाद नोएडा से सांसद डॉक्टर महेश शर्मा ने कुमार विश्‍वास को फोन कर मदद का आश्‍वासन दिया। डा. महेश शर्मा द्वारा मदद का आश्‍वासन दिए जाने के बाद कवि डा.कुमार विश्‍वास ने उनका आभार जताया है।

आगे बता दें कि कुंवर बेचैन का असली नाम डॉ. कुंवर बहादुर सक्सेना है। बेचैन गाज़ियाबाद के एम.एम.एच. महाविद्यालय में हिन्दी विभागाध्यक्ष रहे। वह आज के दौर के सबसे बड़े गीतकारों और शायरों में शुमार किए जाते हैं। उनके कुछ मशहूर गीत संग्रहों में 'एक दीप चौमुखी, 'पिन बहुत सारे', 'भीतर साँकलः बाहर सांकल', 'उर्वशी हो तुम, झुलसो मत मोरपंख',  नदी पसीने की', आदि है।

 

 

 

 


Content Writer

Moulshree Tripathi

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static