संजय सिंह ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- योगी सरकार हर मोर्चे पर हुई फेल

punjabkesari.in Friday, Jun 04, 2021 - 06:43 PM (IST)

लखनऊ:आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद एवं यूपी प्रभारी संजय सिंह ने लोक जन संघर्ष पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रामनिवास शुक्ल, राष्ट्रीय सचिव उमाशंकर अर्कवंशी और बहुजन समाज पार्टी के आगरा,अलीगढ़ के मंडल कोऑर्डिनेटर सहित कई पदाधिकारी आप पार्टी में हुए शामिल हुए।  सांसद संजय सिंह ने अपनी मौजूदगी में इन नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई। संजय सिंह ने योगी सरकार पर हमला बोले कहा 69000 शिक्षक भर्ती-सरकार ने जानबूझकर पिछड़ा वर्ग आरक्षण में गड़बड़ी करके भर्ती को लटकाने की साजिश रची है। जिसे आज प्रदेश का युवा बेरोजगार है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा 69000 शिक्षक भर्ती में जानबूझकर गड़बड़ी की गई है।

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने से निपटने बजाय आपसी झगड़े में उलझी है भाजपा
राज्यसभा सांसद ने कहा जब तीसरी लहर से निपटने की तैयारी करने का वक्त है तब भाजपा और प्रदेश सरकार आपसी खींचतान में व्यस्त है।  उन्होंने प्रदेश के मौजूदा राजनीतिक हालात पर चिंता जताते हुए कहा कि देश और दुनिया के चिकित्सा एवं विज्ञान जब हमें कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सावधानी बरतने का सुझाव दे रहे तो उत्तर प्रदेश सरकार आपसी झगड़े में उलझी हुई है। तैयारी के इस अति महत्वपूर्ण समय में भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की ओर से योगी सरकार की समीक्षा की जा रही है।  यूपी की योगी सरकार में कौन मंत्री बनेगा या किसे हटाया जाएगा इस पर पार्टी मंथन कर रही है। उन्होंने कहा मुख्यमंत्री रहेंगे या फिर बदले जाएंगे इसे लेकर राजनीति चरम पर है।

नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दें योगी: संजय सिंह
संजय सिंह ने कहा भाजपा के राष्ट्रीय संगठन मंत्री बीएल संतोष ने योगी सरकार की नौकरियों के बारे में सुनकर ही पूरे देश में यूपी को समीक्षा के लिए चुना। केंद्रीय नेतृत्व के आगे सरकार की पूरी नाकामी सामने आ चुकी है। बंद कमरे में एक एक मंत्री विधायक से योगी जी की रिपोर्ट माँगी जा रही है। केन्द्रीय नेतृत्व भी मानता है, योगी सरकार हर मोर्चे पर फेल साबित हुई है। कोरोना काल में जनता को अनाथ छोड़ने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपील है कि या तो अपनी नाकामियों को स्वीकारते हुए वह नैतिकता के आधार पर अपना इस्तीफा दे दें या फिर तीसरी लहर को लेकर तैयारियों में जी जान से जुट जाएं।

सरकार भर्तियों के नाम पर नव जवानों का मजाक बनाने में जुटी हुई है। सरकार फर्जी ढंग से 4 लाख नौकरियां देने का दावा करती है जिसमें से एक प्रमुख भर्ती 69000 शिक्षक भर्ती है। इस भर्ती की सच्चाई यह है कि इसमें अब तक अभ्यर्थियों को नियुक्ति नहीं मिली है। सरकार ने जानबूझकर पिछड़ा वर्ग आरक्षण में गड़बड़ी करके इस भर्ती को लटकाने की साजिश रची। राज्यसभा सांसद ने इसे योगी सरकार का भर्ती घोटाला बताया। संजय सिंह ने इस तरह की मानसिकता से ऊपर उठकर सरकार से इन सभी पदों पर शीघ्र अति शीघ्र तैनाती सहित अन्य रिक्त पदों के लिए आवेदन जारी करने की अपील की।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static