सोनभद्र हत्याकांड में प्रत्यक्षदर्शी का दावा- नरसंहार से पहले सिपाही ने मुझे किया था फोन

7/21/2019 3:26:17 PM

लखनऊ\सोनभद्र: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में जमीनी विवाद में हुए नरसंहार मामले में एक प्रत्यक्षदर्शी ने सनसनी फैलाने वाला दावा किया है। गवाह का कहना है कि वारदात से कुछ देर पहले एक सिपाही ने उसे नजदीकी पुलिस स्टेशन से फोन किया था। प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक सिपाही ने उसे जमीन विवाद में समझौता करने के लिए कहा था और चेतावनी दी थी कि ऐसा ना करने पर कुछ भी हो सकता है।

PunjabKesariगवाह का कहना है कि सिपाही ने उससे कहा कि अगर मैं नहीं आता हूं तो कुछ होने की स्थिति में प्रशासन को दोष ना दिया जाए। इसका मतलब यह है कि वह जानता था कि कुछ होने वाला है। इसके बाद मैंने ग्रामीणों से सुना कि मूर्तिया गांव का प्रधान लोग और ट्रैक्टर इकट्ठा कर रहा है। इस बाद गवाह ने एसपी पाटिल को फोन कर बताया कि ग्राम प्रधान कोई बड़ी साजिश रच रहा है।

PunjabKesariनरसंहार के गवाह ने यह भी दावा किया है कि जब उन्हें लगा कि हमला होने की आशंका है तो उन्होंने सोनभद्र के एसपी सलमान ताज पाटिल से मदद मांगने के लिए उन्हें फोन किया था। गवाह के मुताबिक उन्हें स्थानीय पुलिस स्टेशन से संपर्क करने के लिए कहा गया। इसके बाद घोड़ावाल पुलिस स्टेशन के कॉन्स्टेबल सत्यजीत ने उन्हें कॉल करके कहा कि एसएचओ उनसे जमीन विवाद पर बातचीत करना चाहते हैं।

PunjabKesariवहीं दूसरी तरफ एसपी ने गवाह के फोन के दावे को गलत करार दिया। एसपी का कहना है कि मुझे नहीं पता कि गवाह इस तरह आरोप क्यों लगा रहा है। मैं उससे इस मामले में बात करूंगा। एसपी के मुताबिक सिपाही सत्यजीत को सस्पेंड कर दिया गया है और मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। बता दें कि 17 जुलाई को जमीनी विवाद में गोंड और गुर्जर समुदाय में हुए टकराव के दौरान हुई फायरिंग में 10 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 23 लोग घायल हो गए थे।


Anil Kapoor