घोसी उपचुनाव में मिली प्रचंड जीत से I.N.D.I.A गठबंधन में बढ़ेगी सपा की धमक

punjabkesari.in Saturday, Sep 09, 2023 - 05:32 PM (IST)

लखनऊः घोसी विधानसभा उपचुनाव में जीत हासिल कर समाजवादी पार्टी ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को तो करारा झटका दिया ही है, साथ ही आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्षी गठबंधन (इंडिया) का प्रदेश में नेतृत्व करने के कांग्रेस के मंसूबे पर भी पानी फेर दिया। उपचुनाव में जीत से अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में विपक्षी गठबंधन के यूपी में नेतृत्व करने के लिए सपा का दावा अब और भी पुख्ता हुआ है। इसके अलावा पूर्वांचल में अपनी राजनीतिक ताकत का दंभ भरने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के मुखिया ओमप्रकाश राजभर को भी घोसी की जनता ने आइना दिखा दिया है। घोसी में भाजपा को मिली हार के बाद सुभासपा नेता ओपी राजभर की प्रतिष्ठा को भी अवश्य चोट लगी है। वे अब लोस चुनाव 2024 में भाजपा हाईकमान पर उप्र से मनमाफिक सीट पाने का दबाव नहीं बना सकेंगे।

PunjabKesari

भाजपा ने उतार रखी थी पूरी मंत्रियों की फौज
भाजपा ने एक तरफ जहां मंत्रियों की पूरी फौज ही घोसी में उतार रखी थी वहीं सपा की तरफ से पांच चुनिंदा नेताओं ने इस सियासती युद्ध में सभी सत्तासीन दिग्गजों को पटखनी दे डाली। सपा की ओर से प्रो. राम गोपाल यादव, शिवपाल यादव, स्वामी प्रसाद मौर्य, डिंपल यादव और खुद अखिलेश यादव ने भाजपाई फौज को सफल नही होने दिया। बहरहाल, इस विजय से जहां यह साबित हुआ कि चुनावी रणनीति बनाने में शिवपाल यादव का आज भी पार्टी के भीतर कोई तोड़ नहीं है।

PunjabKesari

सपा प्रत्याशी की जीत तय हो जाने के साथ पार्टी मुख्यालय पर लगे समाजवादी पार्टी जिंदाबाद के नारे-
घोसी उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सुधाकर सिंह की भाजपा प्रत्याशी के मुकाबले बढ़त की ख़बरें जैसे ही आनी शुरू हुई पार्टी के प्रदेश कार्यालय, लखनऊ में कार्यकर्ताओं और समर्थकों की भीड़ जुटने लगी। शुक्रवार को सपा प्रत्याशी की जीत तय हो जाने के साथ ही पार्टी मुख्यालय समाजवादी पार्टी जिंदाबाद, अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे से गूंज उठा।

PunjabKesari

यह भाजपा की उल्टी गिनती की शुरूआतः अखिलेश
समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने घोसी उपचुनाव में जीत को लोकतंत्र की भी विजय बताया है। शुक्रवार को जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि इस उपचुनाव में सपा और इंडिया गठबंधन की जीत ने भाजपा का घमंड तोड़ने के साथ सन् 2024 के लोकसभा चुनाव के परिणाम का भी संकेत दे दिया है। यह भाजपा की उल्टी गिनती की शुरूआत है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ajay kumar

Related News

Recommended News

static