''तांडव'' विवाद में कूदा जूना अखाड़ा, महंत गिरी बोले- ''अब समझाने का वक्त गया, जहां भी ये लोग मिले मारो चांटा''

1/18/2021 1:45:02 PM

गाजियाबाद: दिग्गज कलाकारों से सजी बॉलीवुड के अमेजन प्राइम की वेब सीरीज ‘तांडव’ रिलीज होते ही विवादों से घिर गई है। देश भर में इसका विरोध प्रदर्शन तेज होता जा रहा है। इसी बीच उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के प्रसिद्ध दूधेश्वर नाथ मंदिर के महंत और जूना अखाड़ा के प्रवक्ता नारायण गिरी ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अब समझाने का वक्त चला गया है अब जहां भी ये मिले इनको चाटा लगाएं। 

महंत ने कहा कि जब से नरेंद्र मोदी और योगी सत्ता में आये हैं तब से इन लोगों का भाव है कि इनकी लोकप्रियता घट जाए। इन लोगों को राष्ट्रवाद का स्वाद अच्छा नहीं लग रहा है। ऐसे लोगों को दंडित करना चाहिए। कुछ विदेशी षड़यंत्रकारी लोगों से पैसा लेकर ये ऐसी वेब सीरीज बना रहे हैं। तांडव शब्द हमारे लिए पूजनीय है। जो भगवान शिव की आराधना-उपासना है सम्पूर्ण हिन्दू समाज को अपमानित करने के लिए ऐसा किया गया है। 

बता दें कि तांडव में प्रधानमंत्री के गरिमामय पद को ग्रहण करने वाले व्यक्ति का चित्रण खराब तरीके से करने के मामले में डायरेक्टर अली अब्बास जफर, निर्देशक हिमांशु कृष्ण मेहरा, लेखक गौरव सोलंकी और अमेजन प्राइम की ओरिजनल कंटेन्ट इंडिया हेड अपर्णा पुरोहित के खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज में केस दर्ज हुआ है। यह एफआईआर कोतवाली के सब इंस्पेक्टर अमरनाथ यादव की तहरीर पर लिखी गई है।

गौरतलब है कि वेब सीरीज ‘तांडव’ के कई अंश सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहे हैं। जिसमें प्रधानमंत्री के गरिमामय पद को ग्रहण करने वाले व्यक्ति का चित्रण अपमानित तरीके से दिखाया गया है। सीरीज के प्रथम एपीसोड के 17 वें मिनट में देवी-देवताओं को बोलते दिखाया गया है जिसमें निम्न स्तरीय भाषा का प्रयोग किया गया है। इसी तरह कई जगह पर साम्पद्रायिक भावनाओं को भड़काने वाले संवाद है। सीरीज में महिलाओं का अपमान करने जैसे कई दृश्य है। इस सीरीज की मंशा एक समुदाय विशेष की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाली है। सीरीज में ऐक्टर सैफ अली खान,  डिंपल कपाड़िया, सुनील ग्रोवर, तिग्मांशु धूलिया जैसे दिग्गज कलाकारों ने अभिनव किया हैं।  

 

 


Umakant yadav

Related News