UP बोर्ड की परीक्षा में नकल पर नकेल कसने का ये है खास इंतजाम

2/17/2020 3:09:53 PM

प्रयागराजः एशिया में सबसे बड़ी परीक्षा कराने वाली संस्था उत्तर प्रदेश माध्यामिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की 18 फरवरी से शुरू हो रही हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में नकल पर अंकुश लगाने के लिए लखनऊ में राज्य स्तरीय निगरानी एवं नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिससे पूरे प्रदेश के परीक्षा केंद्रों पर नजर रखी जा सकेगी। माध्यमिक शिक्षा परिषद के अपर सचिव (प्रशासन) शिव लाल ने सोमवार को यहां कहा कि राज्य के सभी 75 जिलों में एक-एक नियंत्रण कक्ष बनाया गया है और इनके ऊपर एक राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम बना है जिससे सभी नियंत्रण कक्ष संबद्ध रहेंगे। 10वीं की परीक्षाएं 18 फरवरी से शुरू होकर तीन मार्च और इंटरमीडिएट की 19 फरवरी से छह मार्च तक चलेगी।

इन परीक्षाओं के परिणाम 25 अप्रैल तक घोषित किए जाने की संभावना है। योगी आदित्यनाथ की सरकार नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए कृतसंकल्पित है। उन्होने कहा कि 2020 हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा में कुल 56लाख 7 हजार ,118 परीक्षार्थियों में सर्वाधिक 30 लाख 22 हजार 607 हाईस्कूल और 25लाख 84 हजार 511 इंटरमीडिएट की परीक्षा में शामिल होंगे। हाईस्कूल और इंटरमीड़िएट में कुल 90 हजार 331 व्यक्तिगत परिक्षार्थियों में 10वीं के 20 हजार 647 जबकि 12वीं के 69 हजार 684 परीक्षार्थी हैं।

अपर सचिव ने कहा कि हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं प्रदेश भर में 7,784 केंद्रों पर आयोजित की जाएंगी जिन पर 1,90,000 सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जाएगी। इस बार 938 संवेदनशील और 339 अति संवेदनशील केंद्रों पर स्टैटिक मजिस्ट्रेट की तैनाती की जाएगी जो पूरी अवधि में परीक्षा केंद्र पर नजर रखेंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आठ फरवरी को सभी जिलाधिकारियों, जिला विद्यालय निरीक्षकों और शिक्षा विभाग के अधिकारियों को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए नकल विहीन परीक्षा के लिए ठोस कदम उठाने का निर्देश दिया। परीक्षा के दौरान बिजली की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। 


 


Tamanna Bhardwaj

Related News