शहीद चंद्रशेखर आज़ाद पार्क पर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि, न्यायमूर्ति शेखर ने शहीदों को किया नमन

punjabkesari.in Tuesday, Mar 23, 2021 - 01:55 PM (IST)

प्रयागराज: शहीद दिवस के अवसर पर आज संगम नगरी प्रयागराज के शहीद चंद्रशेखर आजाद पार्क में नमन शहीद श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में आजादी के वीर सपूतों भगत सिंह,सुखदेव और राजगुरु के चित्र पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति शेखर कुमार यादव, मंडलायुक्त संजय गोयल आईजी कवींद्र प्रताप सिंह ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर प्रयागराज पुलिस ने राष्ट्र धुन बजाया गया और शहीदों की याद में 21 गोलियों की सलामी दी गई।

बता दें कि आज ही के दिन  23 मार्च 1931 को भगत सिंह और उनके साथी राजगुरु और सुखदेव को फांसी दी गई थी। उनकी शहादत को देश हमेशा नमन करता है। भारतवर्ष को आजाद कराने के लिए इन वीर सपूतों में हंसते-हंसते फांसी का फंदा चूम लिया था, इसलिए इस दिन को शहीद दिवस कहा जाता है। भगत सिंह और उनके साथी राजगुरु और सुखदेव को फांसी दिया जाना हमारे देश के इतिहास की बड़ी और महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है। भारत के स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। अंग्रेजों ने इन तीनों को तय तारीख से पहले ही फांसी दे दी थी। तीनों को 24 मार्च को फांसी दी जानी था। मगर देश में जन आक्रोश को देखते हुए गुपचुप तरीके से एक दिन पहले ही फांसी पर लटका दिया गया। पूरी फांसी की प्रक्रिया को गुप्त रखा गया था। शहीद भगत सिंह को याद करते हुए न्यायमूर्ति ने कहा कि वह बहुत छोटी उम्र से ही आजादी की लड़ाई में शामिल हो गए और उनकी लोकप्रियता से भयभीत ब्रिटिश हुक्मरान ने 23 मार्च 1931 को 23 वर्ष के भगत को फांसी पर लटका दिया। कार्यक्रम के दौरान शहीद भगत सिंह राजगुरु और सुखदेव के चित्र पर लोगों ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static