UP: राज्यपाल के अभिभाषण के साथ सोमवार से शुरू होगा यूपी विधानमंडल का सत्र, सरकार को घेरने की तैयारी में विपक्ष

punjabkesari.in Sunday, May 22, 2022 - 11:31 AM (IST)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानमंडल का सत्र सोमवार को राज्यपाल के अभिभाषण के साथ शुरू होगा, जिसमें वित्त वर्ष 2022-2023 का बजट भी पेश किया जाएगा। राज्य की मुख्य विपक्षी समाजवादी पार्टी (सपा) महंगाई और कानून-व्यवस्था के मामलों पर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर लगातार निशाना साध रही है, ऐसे में इस संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता कि सदन में भी विपक्ष इन मुद्दों को लेकर हंगामा कर सकता है।

उत्तर प्रदेश विधानमंडल का सत्र 23 मई यानी सोमवार को राज्यपाल के अभिभाषण से शुरू होगा और इसी सत्र में वित्त वर्ष 2022-2023 का आय व्ययक (बजट) पेश किया जाएगा। विधानसभा के विशेष सचिव बृज भूषण दुबे ने शनिवार को इसकी अनंतिम अधिसूचना जारी की। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में दूसरी बार गठित भाजपा सरकार का उत्तर प्रदेश की 18वीं विधानसभा में पहला सत्र 23 मई से शुरू होगा। मंत्रिपरिषद ने विधानमंडल सत्र के संचालन के लिए मंगलवार को मंजूरी दी थी। सपा ने राज्य में अपराध में वृद्धि का आरोप लगाते हुए भाजपा को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश की है। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने शनिवार को अपनी पार्टी का एक ट्वीट पुन: ट्वीट किया।

ट्वीट में पुलिस का एक वीडियो साझा करते हुए लिखा गया है, ‘‘भाजपा शासित सरकार में पुलिस की सरकारी गुंडई का वीडियो आपके सामने हैं। क्या पुलिस किसी को कभी भी फर्जी मुकदमे में नाप सकती है? जी हां, ये कारनामा और ये असीमित अधिकार, उत्तर प्रदेश पुलिस को सिर्फ योगी जी द्वारा दिए गए हैं, (यह) वही पुलिस (है), जिसकी घिग्घी भाजपा नेताओं पर कार्रवाई करते बंध जाती है।'' यादव ने शनिवार को जारी एक बयान में भी कहा, ‘‘भाजपा सरकार का जनहित और जनसमस्याओं से कुछ लेना-देना नहीं है। विकास की अनदेखी और गांव-गरीब के प्रति घोर उपेक्षाभाव के चलते प्रदेश आज अनेक समस्याओं से जूझ रहा है।''

उन्‍होंने कहा, ‘‘100 दिन में महंगाई कम करने का वादा करने वाली भाजपा सरकार में महंगाई ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिये हैं।'' विधानसभा में यादव पहली बार नेता विरोधी दल के रूप में मौजूद रहेंगे, इसलिए भी संकेत मिल रहे हैं कि सदन की कार्यवाही हंगामेदार होगी। उल्लेखनीय है कि 403 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 255 सदस्यों समेत सहयोगी दलों को मिलाकर उसके कुल 273 सदस्य हैं, जबकि सपा के 111 सदस्यों समेत सहयोगी दलों को मिलाकर उसके कुल 125 सदस्य हैं। विधानसभा में कांग्रेस के दो और बहुजन समाज पार्टी का मात्र एक सदस्य है। इससे पहले, 17वीं विधानसभा में भी सपा मुख्य विपक्षी दल थी, लेकिन तब विधानसभा में उसके सदस्‍यों की संख्‍या सिर्फ 47 थी।

इस बीच, योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश विधान सभा में ई-विधान व्यवस्था एवं 18वीं विधानसभा के नवनिर्वाचित सदस्यों के प्रबोधन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायकों को सकारात्मक भूमिका में रहने की नसीहत दी। योगी ने कहा, ‘‘नकारात्मकता किसी जनप्रतिनिधि को कभी आगे नहीं बढ़ा सकती।'' विशेष सचिव दुबे द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक, सोमवार को राज्य विधान मंडल (विधान सभा और विधान परिषद) के दोनों सदनों के समक्ष राज्यपाल का अभिभाषण होगा। इस दिन राज्यपाल के अभिभाषण को पढ़कर सुनाये जाने के साथ ही अध्यादेशों, अधिसूचनाओं और विधेयकों को पटल पर रखा जाएगा।

अधिसूचना के अनुसार, 24 मई यानी मंगलवार और 25 मई यानी बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण (धन्यवाद प्रस्ताव) पर चर्चा होगी। दुबे के मुताबिक, 26 मई यानी बृहस्पतिवार को पूर्वाह्न बजट का प्रस्तुतीकरण होगा और राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा होगी तथा अन्य विधायी कार्य भी निपटाए जाएंगे। इसके बाद, 27 मई यानी शुक्रवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा और अन्य विधायी कार्य होंगे, जबकि 28 मई यानी शनिवार को बजट पर साधारण चर्चा होगी। रविवार को सदन की कार्यवाही नहीं होगी। अधिसूचना के अनुसार, 30 मई यानी सोमवार को बजट पर साधारण चर्चा होगी और 31 मई यानी मंगलवार को बजट पर साधारण चर्चा, बजट के अनुदानों की मांगों पर विचार एवं मतदान होगा तथा अपराह्न तीन बजे बजट पारित किया जाएगा।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static