फर्रुखाबाद में वायरल Fever का कहर: 5 दिनों में 7 लोगों की हुई मौत, करीब 300 लोग पड़े बीमार

punjabkesari.in Thursday, Aug 26, 2021 - 12:50 PM (IST)

फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश के फर्रूखाबाद ग्राम जरारी में बुखार की चपेट में आने से गांव के कई लोग बीमार पड़ गए हैं। पिछले पांच दिनों में बुखार की चपेट में आने से बच्चों समेत 7 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां ग्रामीण झोलाछाप पर भरोसा कर रहे हैं। गाँवो में घरों के आगे गंदगी के अम्बर लगे हुए हैं। सफाई कर्मचारी गाँवो में सफाई करने नहीं जा रहे है। सीएमओ ने जरारी में हुई मौतों के आंकड़े से पल्ला झाड़ लिया है। उन्होंने कहा है कि गांव में कोई भी मौत बुखार से नहीं हुई है। हर घर में मच्छरों का लारवा मिल रहा है जांच कराई जा रही है।

PunjabKesari
बता दें कि कमालगंज, भड़ौसा व नगला दाऊद के बाद अब ब्लाक के सबसे बड़े गांव जरारी में बुखार फैला है। 20 हजार से अधिक आबादी वाले गांव जरारी के मोहल्ले में तेज बुखार से पिछले पांच दिनों में बुखार की चपेट में आने से सात लोगों की मौत हो गई है। इससे गांव में दहशत है। घर-घर बीमारी का प्रकोप है। गांव वालों से कहा कि बारिश में हैंडपंप से गंदा पानी भी आ जाता है। यह पानी भी बीमारी का कारण हो सकता है। जिला मलेरिया अधिकारी ने पीएचसी पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। डेंगू व मलेरिया की 100-100 जांच किट उपलब्ध कराईं। गांव में टीम जाती जरूर है मगर खाना पूर्ति कर वापस आ जाती है। ग्रामीणों का कहना है कि अधिकांश लोग प्राइवेट इलाज करा रहे हैं। गांव के 50 से ज्यादा लोग कमालगंज, कन्नौज के छिबरामऊ व गुरसहायगंज के नर्सिंग होम में भर्ती हैं। कई लोगों का डेंगू का इलाज कराया जा रहा है।

PunjabKesari
रविवार को गांव के 55 वर्षीय रहीस खां तथा पुलिस विभाग में तैनात सिपाही शहनबाज के छह वर्षीय पुत्र ने दम तोड़ दिया। शनिवार को 42 वर्षीय अख्तर खां की बुखार के चलते मौत हो गई। ग्रामीण गुड्डू व महाराज ने बताया कि गांव में बड़ी संख्या में लोग बीमार हैं। ग्रामीणों के अनुसार गांव में साफ सफाई की व्यवस्था सही नहीं है। जगह जगह पर कूड़े के ढेर लगे हैं। गांव के लोग झोलाछाप पर भरोसा कर रहे हैं। कुछ लोग गुरसहायगंज, कन्नौज व फर्रुखाबाद में भी भर्ती हैं। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी चिकित्सक नहीं आते हैं। जिले से अभी तक कोई भी स्वास्थ्य टीम गांव में नहीं भेजी गई है। बुखार के प्रकोप वाले जरारी गांव में मलेरिया विभाग की टीम ने बुधवार को 50 से अधिक घरों में जांच की। इनमें आठ घरों में मलेरिया वाले मच्छरों का लार्वा मिला।

PunjabKesari
सीएमओ सतीश चन्द्रा ने जरारी में हुई मौतों के आंकड़े से पल्ला झाड़ लिया है उन्होंने कहा है कि गांव में कोई भी मौत बुखार से नहीं हुई है। हर घर में मच्छरों का लारवा मिल रहा है जांच कराई जा रही है।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static