वाह रे मानव! 40 वर्षीय हथिनी एम्मा पर जुर्म की हद करते थे मालिक, जबरदस्ती पिलाते थे शराब

3/8/2021 9:09:59 AM

आगराः मानव और पशु का रिश्ता पहले प्यार भरा ही होता था। अब इसे मानव की दरिंदगी कहें या धन कमाने की अंधी चाह उसे पशु की पीड़ा से कोई मतलब नहीं रह गया या कह लें की उसका आनंद ही उसमें समा गया है। उत्तर प्रदेश आगरा में 40 वर्षीय हथिनी एम्मा पर उसके मालिक जुर्म की हद करते थे। यहां तक की उसे तमाम दर्द के बावजूद नियंत्रित करने के लिए जहर के समान शराब पिलाई जाती थी।

बता दें कि वन विभाग ने उसके मालिकों पर वन्यजीव कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगाया है। वन विभाग ने वाइल्डलाइफ एसओएस से हथिनी को इलाज और देखभाल के लिए हाथी के अस्पताल में रखने का अनुरोध किया है. वर्षों से गंभीर दुर्व्यवहार के कारण एम्मा हथिनी पैरों में दर्द है और वह ऑस्टियोआर्थराइटिस से भी पीड़ित है। कांच, कीलें और पत्थर के टुकड़े उसके पैरों में घुस कर घाव कर चुके हैं। कुपोषण के कारण उसकी उसकी स्वास्थ्य स्थिति काफी खराब होने के बावजूद हथिनी को 300 मील से अधिक दूरी चला कर झारखंड राज्य की सीमाओं को पार कर अवैध रूप से ले जाया जा रहा था।

बता दें कि उसे भीख मांगने, धार्मिक जुलूस, शादी समारोह, पर्यटक सवारी जैसी गतिविधि के लिए नियमित रूप से इस्तेमाल किया जाता था। रात में उसे कसकर बांध दिया जाता था, जिसकी वजह से वह लेटने और आराम करने में असमर्थ थी। उसे पेट भर खाना भी नहीं नसीब होता था।

वाइल्डलाइफ एसओएस ने विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए हाथी एम्बुलेंस में पशुचिकित्सा विशेषज्ञों और हाथियों की देखभाल करने वाली एक टीम को मथुरा से धनबाद, झारखंड के लिए 1000 मील से भी अधिक दूरी को तय करने के लिए रवाना किया। पशुचिकित्सकों ने उसे अस्पताल लाया और पैरों में लगे कांच, कीलें और पत्थर के टुकड़े निकाल दिए हैं।
 

 

 


Content Writer

Moulshree Tripathi

Related News