गो आश्रय स्थलों की प्रतियोगिता करायेगी योगी सरकार, मॉडल शेल्टर का मिलेगा दर्जा

punjabkesari.in Saturday, Jan 02, 2021 - 02:32 PM (IST)

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश सरकार आश्रय स्थलों में गोवंश के बेहतर रख-रखाव एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं द्दष्टिकोण से स्थलों के बीच प्रतियोगिता का आयोजन करेगी । इसमें जो सबसे अच्छे आश्रय स्थल होंगे उसके अनुसार ही सभी का रख्ररखाव और देखभाल की जायेगी । उसे मॉडल आश्रय स्थल माना जायेगा।

उत्तर प्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त एवं कार्यवाहक मुख्य सचिव आलोक सिन्हा ने कहा कि आदर्श गौवंश आश्रय स्थलों का मॉडल बनाकर उसी के अनुसार अवस्थापना एवं अन्य सुविधाएं सृजित करने की आवश्यक जानकारियां अन्य गौवंश आश्रय स्थलों को भी उपलब्ध कराई जायेगी । अन्य गौवंश आश्रय स्थलों को बेहतर बनाने के लिये योजनावार धनराशि उपलब्ध कराने की पूर्ण जानकारी जिलों को यथाशीघ्र उपलब्ध करा दी जाए। लगभग 1169 गौवंश आश्रय स्थलों में बनने वाली खाद का उपयोग जैविक खेती में कराने हेतु सम्बन्धित विभाग यथाशीघ्र आवश्यक निर्देश निर्गत करना सुनिश्चित कराएं।

उन्होंने कहा कि  प्रदेश के समस्त निराश्रित गौवंशों को स्थानीय स्तर पर ही आवश्यक व्यवस्थाएं एवं उनके खाने आदि की व्यवस्था सुनिश्चित कराने हेतु प्रत्येक न्याय पंचायत पर गौवंश आश्रय स्थल खोलने हेतु आवश्यकतानुसार जमीन का चिन्हांकन कराकर यथाशीघ्र अन्य व्यवस्थाएं नियमानुसार सुनिश्चित कराई जाएं। सिन्हा ने यह बात गौवंश आश्रय स्थलों की स्थापना, क्रियान्वयन, संचालन व प्रबन्धन की अनुश्रवण समिति बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही और अधिकारियों को निर्देश दिये।

उन्होंने निर्देश दिया कि मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी अपने स्तर पर निर्धारित अवधि में नियमित रूप से बैठक करने के साथ-साथ निराश्रित गौवंश आश्रय स्थलों का निरीक्षण कर आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराते हुए कृत कार्यवाही से सम्बन्धित विभागों को अवगत कराना सुनिश्चित कराएं ताकि शासन स्तर पर अपेक्षानुसार कार्य नियमानुसार यथाशीघ्र सुनिश्चित हो सके। उन्होंने गौवंश आश्रय स्थलों के संचालन हेतु अभी तक अवमुक्त 166 करोड़ रूपये की धनराशि के अतिरिक्त लगभग 34 करोड़ रूपये की धनराशि यथाशीघ्र जनवरी माह में ही अवमुक्त करने के निर्देश दिये। 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Moulshree Tripathi

Related News

Recommended News

static