फर्जी TTE बन यात्रियों से रुपए ऐंठ रहे थे 16 लोग, रेलवे स्टेशन पर धराए, सभी के पास से मिला आई-कार्ड और अपॅाइंटमेंट लेटर

6/11/2021 9:40:19 AM

कानपुरः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश में अपराध व अपराधियों के साथ-साथ फर्जीवाड़ों को भी लेकर सख्त हैं। इसके बावजूद चोरी, ठगी और फर्जीवाड़ा करने वाला धड़ल्ले से लोगों को चूना लगाने में लगे हुए हैं। ताजा मामला कानपुर सेंट्रल स्टेशन का है जहां गुरुवार को यात्रियों के टिकट चेक करते और जुर्माना वसूलते 16 फर्जी TTE पकड़े गए हैं। हर शख्स के पास असली जैसा दिखने वाला आई-कार्ड और अपॅाइंटमेंट लेटर भी मिला है।

बता दें कि थाना जीआरपी कानपुर सेन्ट्रल अपर पुलिस महानिदेशक रेलवे पीयूष आनन्द , पुलिस महानिरीक्षक रेलवे एस.के. सिंह , पुलिस अधीक्षक रेलवे सौमित्र यादव , पुलिस उपाधीक्षक रेलवे कमरुल हसन खान के द्वारा रेल में बढती चोरी की घटनाओ की रोकथाम एवं अपराधियों की गिरफ्तारी व बरामदगी हेतु चलाये जा रहे अभियान के अन्तर्गत थाना प्रभारी जीआरपी कानपुर सेन्ट्रल अजीत कुमार सिंह एवं आरपीएफ इन्सपेक्टर पी.के. ओझा कानपुर सेन्ट्रल के कुशल नेतृत्व में गठित टीम द्वारा वादी सुनील पासवान जो कि एस.टी.ई कानपुर सेन्ट्रल रेलवे स्टेशन पर टिकिट चैकिंग का कार्य कर रहे थे चैकिंग के दौरान एक संदिग्ध व्यक्ति रेलवे का आई.कार्ड की पट्टी डाले दिखाई दिया।

आगे बता दें कि पूछताछ करने पर वह व्यक्ति फर्जी टी.टी प्रतीत हुआ जिसके आधार पर आर.पी.एफ के ए.एस.आई. राम की मदद से वादी ने थाना जीआरपी कानपुर सेन्ट्रल में आईपीसी के तहत पंजीकृत कराया गया ।

वहीं संदिग्ध टीटी से पूछताछ की गयी तो उसने अपना नाम दिनेश कुमार बताया तथा अपने आप को कानपुर सेन्ट्रल का टीटी बताया और कहा कि में अभी ट्रेनिंग कर रहा हूँ तथा मेरे साथ कई लोग रेलवे स्टेशन कानपुर पर ट्रेनिग कर रहे है । जब रेलवे कार्यालय में पता लगाय गया प्रकार का कोई रिकॉर्ड नही मिला जिससे यह प्रमाणित हो गया कि यह फर्जी टी.टी है ।

गिरफ्तार करने वाली टीम के सदस्यों का विवरण

1.कीर्ती प्रकाश कनौजिया थाना जीआरपी कानपुर सेन्ट्रल
2. ए.एस.आई श्री राम आरपीएफ सीएनबी
3. अन्य जीआरपी एवं आरपीएफ पुलिस टीम


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Moulshree Tripathi

Recommended News

static