अखिल भारत हिंदू महासभा ने नाथूराम गोडसे की तस्वीर लगाकर निकाली तिरंगा यात्रा, बताया मसीहा

punjabkesari.in Tuesday, Aug 16, 2022 - 02:36 PM (IST)

मुजफ्फरनगर: 76 वें स्वतंत्रता दिवस को पूरे देश में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया गया। इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद में तो अखिल भारत हिंदू महासभा ने नाथूराम गोडसे की तस्वीर लगाकर नगर में तिरंगा यात्रा निकाली। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। जो कि नगर में इस समय चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल जनपद में 15 अगस्त को लेकर बहुत से कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था। जिसके चलते अखिल भारत हिंदू महासभा ने भी स्वतंत्रता दिवस मनाते हुए आज नगर में तिरंगा यात्रा निकाली। यह तिरंगा यात्रा चर्चा का विषय उस समय बन गई जब इस यात्रा में अखिल भारत हिंदू महासभा के द्वारा नाथूराम गोडसे की तस्वीर लगाई गई थी। आपको बता दें कि अखिल भारत हिंदू महासभा की इस तिरंगा यात्रा में गोडसे की लगी फोटो की कुछ वीडियो भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है।

इस बाबत जब हमने अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी अध्यक्ष योगेंद्र वर्मा से बात की तो उनका कहना था की अखिल भारत हिंदू महासभा के द्वारा 15 अगस्त के पावन पर्व पर तिरंगा यात्रा का आयोजन किया गया था जो  शहर के विभिन्न मार्गों से होती हुई वापस कार्यालय पर आकर संपन्न हुई। जिसमें अखिल भारत हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं सहित हिंदू नेताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। तिरंगा यात्रा में फोटो बहुत से क्रांतिकारियों की लगी थी उसमें गोडसे भी शामिल है। गोडसे भी एक क्रांतिकारी रहे हैं रही बात गांधी वध की तो गांधी की नीतियों के कारण ही गोडसे को गांधी का वध करना पड़ा था।

गोडसे ने अपना मुकदमा स्वयं लड़ा लेकिन जो कोर्ट में हुआ वह आज तक सरकार ने सार्वजनिक नहीं किया। क्योंकि उस वक्त सरकार नहीं चाहती थी कि गांधी का वध क्यों हुआ ये पता लगे। गांधी की कुछ नीतियां ऐसी ही थी आजादी के बाद जो बंटवारा हुआ था उसमें 30 लाख हिंदू और मुसलमानों का कत्ल हुआ था जिसके जिम्मेदार केवल गाँधी थे। उसके बाद वह एक ऐसा रोड बनाना चाहते थे जो पाकिस्तान से लेकर बांग्लादेश तक जाये। जिसका पूरा देश विरोध कर रहा था क्योंकि यदि वह रोड बन जाता तो भारत दो भागों में बंट जाता और उस पर पूर्ण अधिकार पाकिस्तान का होता। यदि भारत को दूसरी तरफ जाना पड़ता तो पाकिस्तान की अनुमति लेनी पड़ती जो गोडसे ने गांधी वध किया। वह उनके अनुसार किया और उन्हें उसकी सजा भी मिली, उन्हें फांसी की सजा मिली।

 

योगेंद्र वर्मा ने कहा कि कुछ लोग गांधी को मानते हैं कुछ गोडसे को। हिंदू महासभा गोडसे को अपना मसीहा मानती है। गोडसे को देशभक्त मानते हैं। हमने सब की तस्वीर लगा रखी थी क्रांतिकारियों में चंद्रशेखर आजाद ,भगत सिंह, रानी लक्ष्मीबाई, सुभाष चंद्र बोस, योगी दिग्विजय नाथ आदि की भी लगी हुई थी। आपको बता दें कि गोडसे बहुत बड़ा लेखक था बहुत बड़ा पत्रकार था। उसने किसी इर्शापूर्ण या किसी लालच से गांधी वध नहीं किया था। उसने देश को बचाने के लिए गांधी वध किया था। 

 

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ajay kumar

Related News

Recommended News

static