विकास दूबे पर बन रही बॉयोपिक ‘हनक’ और किताब का पत्नी रिचा ने किया विरोध, भेजा लीगल नोटिस

1/17/2021 12:57:35 PM

कानपुर: उत्तर प्रदेश में कानपुर बिकरू कांड के बाद पुलिस इनकाउंटर में मारे गए दुर्दांत विकास दुबे के जीवन पर जल्द ही एक किताब और फिल्म रिलीज होने जा रही है। जिसे लेकर विकास दुबे के परिवार वालों ने कड़ा एतराज जताया है और दोनों पर रोक लगाए जाने की मांग की है। विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे ने इस मामले में किताब के लेखक और फिल्म के प्रोड्यूसर-डायरेक्टर व कलाकारों को कानूनी नोटिस भेजा है और सात दिनों में उचित जवाब नहीं दिए जाने पर हाईकोर्ट में मुकदमा दाखिल किये जाने की बात कही है।

PunjabKesari
केंद्रीय गृह मंत्रालय और सूचना व प्रसारण मंत्रालय से दखल देने की गुहार 
ऋचा दुबे की ओर से उनके वकीलों ने कानूनी नोटिस भेजने के साथ ही केंद्रीय गृह मंत्रालय और सूचना व प्रसारण मंत्रालय में भी अर्जी देकर इस मामले में दखल देने की गुहार लगाई है। ऋचा दुबे के वकीलों ने पचास लाख रूपये लेकर फिल्म बनाने का अधिकार दिए जाने को भी गलत बताया है। अर्जी में कहा गया है कि किताब और फिल्म से ऋचा दुबे और उनके परिवार की छवि धूमिल होगी।

PunjabKesari
"मैं कानपुर वाला" और "हनक" पर ऋचा दुबे ने जताया विरोध  
गौरतलब है कि मृदुल कपिल नाम के लेखक इन दिनों "मैं कानपुर वाला" के नाम से विकास दुबे की जीवनी पर एक किताब लिख रहे हैं। उनकी इस स्टोरी को बेस बनाकर द प्रोडक्शन हेडक्वार्टर्स लिमिटेड और सरकार प्रोडक्शन इंडिया लिमिटेड नाम की प्रोडक्शन कम्पनी साथ मिलकर एक फिल्म का निर्माण कर रही है। फिल्म की शूटिंग तेजी से अलग अलग जगहों पर की जा रही है। फिल्म का टाइटल "हनक" रखा गया है। ऋचा दुबे ने इसी फिल्म और किताब पर विरोध जताते हुए कानूनी नोटिस भेजा है।

PunjabKesari
बगैर अनुमति फिल्म बनाना किसी भी व्यक्ति के अधिकारों का हनन 
विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे के वकील प्रभाशंकर मिश्र और ऋषभ राज ने इस मामले में प्रयागराज में प्रेस कांफ्रेंस कर कानूनी नोटिस और मंत्रालयों को अर्जी भेजने की जानकारी दी है। ऋचा दुबे के अधिवक्ता ने बायोपिक को भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 का भी उल्लंघन बताया है। उन्होंने कहा है कि इस तरह से बगैर अनुमति फिल्म बनाना किसी भी व्यक्ति के स्वतन्त्रता और निजता के अधिकारों का भी हनन है।

PunjabKesari
फिल्म और किताब से जुड़े लोगों को भेजी गई नोटिसों पर खुद ऋचा दुबे ने हस्ताक्षर भी किये हैं। नोटिस में कहा गया है कि किसी के जीवन पर फिल्म बनाने या किताब लिखने से पहले खुद उसकी या उसकी गैर मौजूदगी में परिवार की सहमति बेहद ज़रूरी है। किताब और फिल्म दोनों से ही जुड़े लोगों ने ऋचा दुबे को जानकारी तक नहीं दी है। फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने के बाद परिवार को इस बारे में जानकारी मिली है।  

          

       

 


Umakant yadav

Related News