CM योगी कल श्रावस्ती से करेंगे ‘स्कूल चलो अभियान’ की शुरुआत, स्कूलों को गोद लेंगे विधायक और अधिकारी

punjabkesari.in Sunday, Apr 03, 2022 - 02:42 PM (IST)

लखनऊ: कोरोना संक्रमण के कारण पिछले दो साल से अस्त व्यस्त स्कूली शिक्षा को पटरी पर लाने के मकसद से सोमवार से उत्तर प्रदेश में ‘स्कूल चलो अभियान' की शुरूआत होगी जिसका श्रीगणेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ श्रावस्ती जिले से करेंगे। अभियान के दौरान कम साक्षरता वाले जिलों पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा। वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण बुरी तरह प्रभावित शिक्षण व्यवस्था को गति देने के प्रयास के तहत इस अभियान की शुरूआत की जा रही है। दूसरी बार प्रदेश की कमान संभालने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा है कि सभी प्राइमरी स्कूलों को बेहतर सुविधाओं से लैस किया जाए। इसको ध्यान में रखते हुए विभाग द्वारा सभी तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं।      

इससे पहले गुरुवार को मुख्यमंत्री ने उच्च अधिकारियों की बैठक में निर्देश दिए थे कि सभी अध्यापक घर-घर जाकर अभिभावकों से मिलकर बच्चों को स्कूल आने के लिए प्रेरित करें। स्कूल चलो अभियान के साथ सभी जनप्रतिनिधियों को भी जोड़ा जाए। सभी विधायक एक-एक विद्यालय को गोद जरूर लें। इसके साथ ही अधिकारी भी स्कूलों को गोद लें। योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिया था कि जिन जिलों की साक्षरता दर कम है, उन जिलों पर विशेष ध्यान दिया जाय। वहां के विद्यालयों में वृहद स्तर पर अभियान चलाया जाए। स्कूल चलो अभियान की शुरुआत श्रावस्ती से की जा रही है, वहां की साक्षरता दर प्रदेश में सबसे कम है। इसके बाद बहराइच, बलरामपुर, बदायूं और रामपुर हैं।      

मुख्यमंत्री ने ये भी निर्देश दिए कि ऑपरेशन कायाकल्प से बेसिक शिक्षा परिषद के सारे विद्यालयों को आच्छादित किया जाए। प्रत्येक प्राथमिक विद्यालय को सभी बुनियादी सुविधाओं से लैस किया जाए। इसके लिए निजी संस्थाओं, स्कूल के पुराने विद्यार्थियों को अभियान चलाकर जोड़ा जाए। स्कूलों के कायाकल्प के लिए सीएसआर (कारपोरेट सोशल रिपांस्बिलिटी) की मदद ली जाए। इसके साथ ही मुख्यमंत्री द्वारा बेसिक शिक्षा से जुड़े हर विद्यालय में पेयजल, टॉयलेट, स्माटर् क्लास और फर्नीचर की व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए गए हैं और बच्चों की यूनिफॉर्म और जूते मोजे की भी व्यवस्था का आदेश है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा है कि शिक्षकों की तैनाती से लेकर बुनियादी सुविधाओं का समयबद्ध अभियान चलाया जाए। हर बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में शिक्षकों की तैनाती हो।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Mamta Yadav

Related News

Recommended News

static