यूपी में कोरोना के बढ़ते मामले पर भाकपा ने योगी सरकार पर साधा निशाना

punjabkesari.in Sunday, Apr 25, 2021 - 05:20 PM (IST)

लखनऊ: कम्युनिस्ट पार्टी ने कोरोना से मौतें रोकने में सरकार की विफलताओं के विरोध में रविवार को राज्यव्यापी वर्चुअल प्रतिवाद किया। प्रतिवाद घरों, पार्टी कार्यालयों व कार्यस्थलों से कोविड नियमों का पालन करते हुए किया गया। प्रतिसादकर्ता हाथों में नारे और मांगें लिखी तख्तियां (प्लेकार्ड) लिए थे। उन्होंने इसकी तस्वीरें व वीडियो सोशल मीडिया पर डाले और उसे वायरल किया। कई जिलों से मांग पत्र सरकार को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से प्रेषित किया गया। प्रदेशव्यापी विरोध के माध्यम से जिन सवालों और मांगों को पार्टी ने उठाया, उनमें प्रमुख थे :‘एम्बुलेंस, बेड, ऑक्सीजन व वेंटिलेटर के अभाव में तड़पते कोविड मरीजों की मौतों का जिम्मेदार कौन? योगी-मोदी जवाब दो!‘,‘गंभीर मरीजों के लिए अतिशीघ्र एम्बुलेंस, अस्पतालों में पर्याप्त बेड, आईसीयू, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर व दवा-इंजेक्शन की उपलब्धता की गारंटी करो‘,‘ऑक्सीजन, रेमडेसिवीर व अन्य जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी रोको'‘सरकारी व निजी अस्पतालों में सभी की मुफ्त कोरोना जांच व इलाज, आरटी-पीसीआर टेस्ट की संख्या पर्याप्त रूप से बढ़ाना और रिपोर्ट 24 घंटे में देना सुनिश्चित करो‘।

 जिले व ब्लॉक स्तर पर कोविड इलाज को जरूरी सुविधाओं से लैस अस्पताल, डॉक्टर व आईसीयू उपलब्ध कराओ‘,‘सभी को मुफ्त कोरोना वैक्सीन का इंतजाम करो, निजी अस्पतालों में वैक्सीन-इलाज पर खर्च की प्रतिपूर्ति सरकार करे‘,‘प्रवासी मजदूरों को ससम्मान घर पहुंचाने और उन्हें व सभी गरीबों को अगले तीन माह तक प्रतिमाह 10 हजार रु भत्ता व छह माह तक मुफ्त राशन-ईंधन दो, और‘मनरेगा में रोजगार सृजन व शहरी गरीबों को भी रोजगार की व्यवस्था करो‘। इस मौके पर वक्ताओं ने कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर को रोकने में योगी-मोदी सरकार की लापरवाही आपराधिक व विफलता अक्षम्य है। यदि राज्य में ऑक्सीजन सिलेंडरों, कोविड अस्पतालों व बिस्तरों का अग्रिम इंतजाम हुआ रहता, तो कई कीमती जानें बचाई जा सकती थीं।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static