परिषदीय विद्यालयों की परीक्षाएं आज से शुरु, शिक्षकों ने बच्चों को दिए गुरुमंत्र

punjabkesari.in Wednesday, Mar 23, 2022 - 02:21 PM (IST)

कुशीनगर: जिले में कोरोना महामारी के समय से सबसे अधिक प्रभावित हुई परिषदीय विद्यालयों के बच्चों की शिक्षा को कुछ दिन शिक्षकों ने उपचार शिक्षा चलाई और अब उनकी परीक्षाएं चलने लगी है। ऐसे में आज पहले दिन परीक्षा के बाद हमने बच्चों में उत्साह देखा गया। शिक्षकों ने महामारी में शिक्षा की तैयारी और उनकी परेशानी बतायी। वही बच्चों को परीक्षा के लिए और मंत्र भी दिए।

PunjabKesari

बच्चों की लिखित परीक्षा के साथ मौखिक परीक्षा भी होगी
कोविड काल के समय कुशीनगर जिले के खोटही बनकट में शिक्षकों ने बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे थे। अब पिछले दो साल से इन ऑनलाइन पढ़ाई के आधार पर ही बच्चों को अगली कक्षा मे प्रोन्नत कर दिया गया था। लेकिन इस बार सरकार के आदेशानुसार बच्चो की परीक्षा कराकर उनका मूल्यांकन किया जाएगा। जिसके लिए शिक्षकों को बच्चों के लिए कुछ महीने का समय मिला ऐसे में ऐसे में उत्तर प्रदेश के सभी परिषदीय और उच्च प्राथमिक विद्यालय मे परीक्षा आज से शुरू हो गयी है। इस बार परीक्षा के लिए सरकार ने पूरे प्रदेश मे एक ही समय सारणी जारी की है।इस बार की परीक्षा मे ना केवल लिखित ज्ञान बल्कि बच्चो के मौखिक ज्ञान का भी परीक्षण किया जाएगा। प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालय मे परीक्षा की तैयारी पहले ही पूर्ण कर ली गयी । पहले दिन प्राथमिक विद्यालयों की सभी एक से पांच तक की कक्षाओं मे सभी विषयों की मौखिक परीक्षा हुई। जबकि उच्च प्राथमिक विद्यालय मे दो पाली मे कला,कृषि,गृह शिल्प और शारीरिक शिक्षा एवं स्काउट गाइड की परीक्षा हुई। उसके बाद 23 मार्च से 26 मार्च तक लिखित परीक्षाएं करायी जाएगी।

PunjabKesari

ऑनलाइन पढ़ाई और हर महीने के टेस्ट से परिक्षा हुई आसान
परीक्षा देकर निकले कम्पोजिट विद्यालय के छात्र आशीष ने बताया कोरोना महामारी के समय वह भले ही स्कूलों से दूर थे पर ऑनलाइन तैयारियां हो रही थी जबसे क्लास चली है तब से हम लोग लगातार बेहतर शिक्षा पा रहे हैं हर महीने टेस्ट होते रहने के कारण हमें कुछ ज्यादा दिक्कत महसूस नहीं हो रहा है हालांकि अभी कुछ विषयों के सिलेबस भले बाकी हैं पर हमारी तैयारियां पूरी हैं।

PunjabKesari

शिक्षकों ने बच्चों को दिए गुरु मंत्र
प्रधानाचार्य सूर्य प्रताप ने बच्चों को हौसला देते हुए कहा कि परीक्षा के समय उन्हें पॉजिटिव रहना चाहिए। किसी भी तनाव में आकर परीक्षा नहीं देनी चाहिए। हां बस यह बेहद जरूरी है की उनके तरफ से परीक्षा की तैयारियों में कोई कमी ना रह जाए। जिसका मलाल परीक्षा के बाद उन्हें महसूस करना पड़े। हालांकि कोरोना काल ने शिक्षा जरूर प्रभावित की लेकिन उपचारित शिक्षा और हम अध्यापकों के प्रयास ने सभी बच्चे परीक्षण उत्साहित हैं। बच्चों के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं।  


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static