400 छात्रों का भविष्य अंधेरे में, ANM वैकेंसी में सलेक्शन के दौरान फर्जी सर्टिफिकेट का खुलासा

punjabkesari.in Thursday, Jan 13, 2022 - 03:36 PM (IST)

कुशीनगरः हाटा कोतवाली क्षेत्र में पैरामेडिकल कॉलेज के संचालन और फर्जी मार्कशीट देने का मामला सामने आया है । जिसमें लगभग चार सौ बच्चों का भविष्य अंधकार में लटका हुआ है। जहां ANM की वैकेंसी में एक छात्रा के सिलेक्शन के बाद ज्वाइनिंग में प्रमाणपत्रों की जांच के दौरान खुलासा हुआ । जिसके बाद छात्रों ने कॉलेज संचालन के विरुद्ध कार्यवाही और प्रत्येक छात्रों से हुए फीस के नाम पर लाखों की वसूली की वापसी के लिए अधिकारियों के चक्कर काट रहे हैं ।
PunjabKesari
प्रशासन के सामने चल रहा था कॉलेज लाखों रुपये फीस पर रिजल्ट फर्जी
पिपरा बाजार की रहने वाली फर्जीवाड़े की शिकार हुई छात्रा मुन्नी ने बताया कि हाटा नगरपालिका के पगरा में Nh28 के किनारे जननी पैरामेडिकल नर्सिंग साइंस इंस्टीट्यूट एण्ड जननी हॉस्पिटल नाम से वर्ष 2018 में क्षेत्रीय भाजपा विधायक पवन केडिया द्वारा उद्घाटन के बाद खोला गया था । कॉलेज में MBBS (NEET) से लेकर BAMS, GNM, DDLT, M.Sc.Nursing जैसे लगभग 30 कोर्स की पढ़ाई कराने का विधिवत प्रचार प्रसार भी कराया गया । सभी कोर्स 1 साल से साढ़े पाँच तक के थे । विधायक द्वारा किया गया उद्घाटन और सभी अधिकारियों के नजरों के सामने 4 सालों से चलाए जा रहे कॉलेज पर किसी अधिकारी की कोई नजर नही पड़ी। हमारी दोस्त का जब सलेक्शन ANM में हुआ तो प्रमाणपत्र की जांच में रिजल्ट फर्जी मिला तबसे हम अधिकारियों से दोषी संचालक के खिलाफ कार्यवाही के लिए ठोकरे खा रहे पर कोई सुनने वाला नही हैं ।
PunjabKesari
संचालक पुलिस की मदद से फसाने की दे रहा धमकी
ममता ने बताया कि संचालन हमारे ही दोस्तों को पुलिस की मदद से झूठे केस में फंसाने की धमकियां दिला रहा। हम लोग कर्ज लेकर किसी तरह अपनी पढ़ाई पूरी किए ताकि अपने परिवार को सहारा दे पर इस तरह के फर्जीवाड़े ने हमारे सपनो और परिवार की उम्मीदें तोड़ दिया । पढ़ाई के कामों के साथ संचालक छात्रों से कॉलेज के निर्माण में हो रहे कामो को भी कराया करता था पर हम सबको यह उम्मीद न थी कि यही संस्थान हमारे सपनों की कब्र बन जाएगी। अब कोई हमारी सुनता ही नहीं । केवल इतनी ही विनती हैं कि हमारे घरवालों की मेहनत की कमाई और कर्ज से जो लाखो की फीस ली गई हैं उसे ही लौटा दें और फिर किसी के साथ इस तरह की धोखाधड़ी न हो।
PunjabKesari
मजदूरी और कर्ज लेकर भरी थी फीस टूट गए सपने
मनीषा ने बताया कि कुछ लोगों को नेशनल कौंसिल ऑफ पैरामेडिकल या पैरामेडिकल साइंस तो कुछ को अब्दुल कलाम ग्रुप ऑफ एजुकेशन का रिजल्ट मिला है जिसके लिए हम सबसे 2 से 4 साल के समय तक लाखों की फीस ली गई पर इसकी हकीकत रद्दी के कागज बराबर ही हैं। हमारे घर के लोगों ने मेहनत मजदूरी करके किसी तरह लाखों की फीस भरी हम लोग भी कॉलेज तक किराया लगाकर आते थे । 
PunjabKesari
चार साल पहले क्षेत्रीय भाजपा विधायक ने किया था उद्घाटन
भाजपा विधायक पवन केडिया से जब इस मामले पर फोन से बात की गई तो उन्होंने संचालक से कोई परिचय न होने की बात कही। उन्होंने कहा मैं जनप्रतिनिधि हूं उन्होंने बुलाया होगा तो मैं उनके उद्घाटन में चला गया । मुझे पहले उसके बारे बिल्कुल भी पता नहीं था । हमसे छात्रों ने जब मुलाकात करी तो हमने उनके लिए कोतवाल हाटा से बात कर उचित कार्यवाही को कहा।
PunjabKesari
Sdm ने 21 जनवरी तक जांच करने की बात कही
फर्जीवाड़े के शिकार बच्चों ने उपजिलाधिकारी हाटा पुर्ण बोरा से मुलाकात कर शिकायत करी। जिसके बाद उपजिलाधिकारी ने उन्हें बताया कि चुनावी व्यस्तता होने के बावजूद हम इन छात्रों की शिकायत पर विस्तृत और निष्पक्ष जांच करा कर जिलाधिकारी और मुख्यचिकित्सा अधिकारी को रिपोर्ट देंगे, इसके लिए हमने छात्रों से 21 जनवरी तक का समय कहा है ,जो दोषी हैं उनपर जरूर कार्यवाही की जाएगी। हमें इस क्षेत्र ने आए ज्यादा समय नहीं हुआ पर ऐसे किसी फर्जी संस्थान का पहला केस हमारे संज्ञान में है अगर इस तरह की कोई सूचना हमें मिलेगी तो उसपर भी जांच करा कार्यवाही की जाएगी।

 


 

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Imran

Related News

Recommended News

static