जेल से रिहाई के वक्त जश्न का फेसबुक लाइव करना सपा नेता घर्मेद्र यादव को पडा महंगा, कसा पुलिस का शिकंजा

punjabkesari.in Sunday, Jun 06, 2021 - 07:35 PM (IST)

इटावाः  उत्तर प्रदेश की इटावा जिला जेल से रिहा हुए सपा नेता धर्मंद्र यादव की हूटर रैली का फेसबुक लाइव करना मंहगा पड गया । वायरल वीडियो आज देश भर में सुर्खियों में है । वीडियो को लेकर सबसे पहले भारतीय जनता पार्टी की यूपी ईकाई ने अपने टिवटर एकाउंट से की थी जिसके बाद उसे खबर का माध्यम बनाया गया ।

इस बाबत इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉक्टर ब्रजेश कुमार सिंह का कहना है कि धर्मेद्र यादव 4 जून की शाम को इटावा की जिला जेल से रिहा हुआ । एक रात इटावा में रूकने के बाद 5 जून को घर्मेंद्र ने बडी तादात में जेल गेट पर अपने समर्थकों के साथ पहुंच कर जश्न मनाना शुरू करते हुए हूटर रैली निकाली परिणामस्वरूप वीडियो फोटो जब वायरल हुए तो पुलिस को सर्तक होना पडा । पुलिस इस पूरे प्रकरण मे साइबर सेल के माध्यम से गहनता से पडताल करने में जुटी हुई है । उनका कहना है कि फेसबुक पर पहली पोस्ट डालने वाले की तलाश सरगर्मी से करने मे पुलिस की टीम लगी हुई है । जिस जिस ने घर्मेंद्र यादव की जश्न पोस्ट को शेयर और लाइक किया है उनकी भी सरगर्मी से तलाश की जा रही है । उन्होंने इस बात से साफ इंकार किया है कि घर्मेंद्र यादव ने इस आयोजन के लिए कोई भी वाटसएप गुप का प्रयोग नही किया गया केवल मोबाइल फोन पर ही अपने समर्थकों से संपर्क स्थापित करके हूटर रैली निकाली।

इतना ही नहं जुलूस में हार-माला पहने धर्मेंद्र एक खुली कार में चल रहा था,जबकि उसके समर्थक उसकी गाड़ी के आगे-पीछे दिखाई दे रहे थे । दाहिने-बाएं गाड़ियों के दरवाजों से बाहर लटके,नारेबाजी करते और जुलूस की वीडियो बनाते चल रहे थे । सबसे खास बात तो यह है कि घर्मेद्र यादव और उसके समर्थको ने खुद ही यह मुसीबत मोल ली है अगर वो फेसबुक लाइव नही करते तो शायद पुलिस की निगाह भी इस ताकत का प्रदर्शन करने वाले कारनामे पर किसी की नही पडती । धर्मेंद्र यादव औरैया में समाजवादी युवजन सभा का अध्यक्ष है और हालिया जिला पंचायत चुनाव में जिला पंचायत सदस्य के तौर पर जेल में रहते हुए विजयी हुआ है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Moulshree Tripathi

Related News

Recommended News

static