UP की 10 राज्यसभा सीटों के लिए नामांकन शुरू, जानिए, जांच से लेकर नाम वापसी की आखिरी तारीख?

10/20/2020 4:06:27 PM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की दस राज्यसभा सीटों पर नौ नवंबर को होने वाले मतदान के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है। चुनाव आयोग के सूत्रों ने मंगलवार को यहां बताया कि द्विवार्षिक चुनावों की अधिसूचना आज सुबह जारी की गई। नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 27 अक्टूबर है। नामांकन की जांच 28 अक्टूबर को की जाएगी जबकि दो नवंबर को नाम वापसी की आखिरी तारीख है।

भाजपा के 10 में से आठ सीटों पर जीतने की संभावना
उन्होंने बताया कि यदि आवश्यक हुआ तो मतदान नौ नवंबर को होगा और उसी दिन परिणाम घोषित किए जाएंगे। राज्य विधानसभा के सदस्य इस चुनाव में मतदाता हैं। उत्तर प्रदेश विधानसभा की 403 सदस्यों वाले सदन में भाजपा के 310 विधायक हैं। सत्तारूढ़ दल भाजपा के 10 में से आठ सीटों पर आराम से जीतने की संभावना है। समाजवादी पार्टी (सपा) के 46 विधायक हैं और पार्टी को एक सीट पर जीत की उम्मीद है जबकि संयुक्त विपक्ष द्वारा भी एक सीट जीती जा सकती है। 

जीतने वाले उम्मीदवार को 34 वोट प्राप्त करने होंगे
राज्य विधानसभा में आठ सीटें रिक्त है। इसलिए आठ सदस्यों की संख्या घटने से मतदाताओं की संख्या 395 रह जाएगी। जीतने वाले उम्मीदवार को 34 वोट प्राप्त करने होंगे। सपा ने पहले ही प्रोफेसर राम गोपाल यादव को द्विवार्षिक चुनाव के लिए अपना उम्मीदवार के रूप में घोषित किया है, लेकिन भाजपा समेत किसी अन्य पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है।

इन सदस्यों का कार्यकाल 25 नवंबर 2020 को होगा समाप्त
सपा प्रत्याशी प्रोफेसर राम गोपाल यादव बुधवार को अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। सपा ने प्रत्याशी के नामांकन फार्म पर अपने हस्ताक्षर देने के लिए आज लखनऊ में अपने सभी विधायकों को भी तलब किया है। उत्तर प्रदेश के जिन सदस्यों का कार्यकाल 25 नवंबर, 2020 को समाप्त होगा उसमें केंद्रीय मंत्री और भाजपा सदस्य हरदीप सिंह पुरी, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह, भाजपा के नीरज शेखर, सपा के राम गोपाल यादव, रवि प्रकाश वर्मा, डॉ0 चंद्रपाल सिंह यादव और जावेद अली खान हैं जबकि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के वीर सिंह और राजाराम हैं। इसके अलावा कांग्रेस सदस्य पीएल पुनिया शामिल है। 


Umakant yadav

Related News