किसानों के समर्थन में उतरी कांग्रेस, काले झंडे लगाकर कृषि कानून किया विरोध

punjabkesari.in Wednesday, May 26, 2021 - 07:56 PM (IST)

झांसी: केंद्रीय कृषि कानून के विरोध में छह माह से धरने पर बैठे किसानों के समर्थन में बुधवार को उत्तर प्रदेश के झांसी में विरोध प्रदर्शन करने जा रहे कांग्रेसी नेताओं को जिला प्रशासन ने ऐसा करने से रोक दिया । केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए काले कृषि कानूनों के विरोध में किसानों द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन के छह माह पूर्ण होने पर एक किसानों द्वारा देश भर में विरोध दिवस मनाने का आह्वान किया गया था जिसके तहत झांसी में प्रशासन द्वारा विरोध प्रदर्शन रोकने के उद्देश्य से पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य सहित कई अन्य कांग्रेसी नेताओं के घरों पर पुलिस का पहरा बैठा दिया। इस अवसर पर काले कपड़े पहन कर एवं अपने घरों पर काले झंडे लगाकर कांग्रेसियों ने विरोध किया। काफी जद्दोजहद के बाद कृषि कानूनों का विरोध दर्ज कराते हुए राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजने का निर्णय लिया गया। इस अवसर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री के निवास पर पहुंचे उपजिलाधिकारी राजकुमार को ज्ञापन सौंपा गया।

राष्ट्रपति को भेजे ज्ञापन में केंद्र सरकार द्वारा पारित नए कृषि कानून का विरोध किया गया। श्री जैन ने बताया कि केंद्र सरकार ने काला कृषि कानून कॉरपोरेट जगत के कुछ उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य बनाया है। इस कानून के तहत कोई भी व्यक्ति देश में असीमित खरीदारी कर असीमित भंडार कर सकता है। जिससे जमाखोरी को बढ़ावा मिलेगा और मंडियों का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। इसके अलावा अपनी उपज का किसान सही दाम मांगने का अधिकारी नहीं होगा और सही दाम के लिए किसान अदालत का दरवाजा नहीं खटखटा सकेगा जो कि किसान भाइयों के साथ बहुत बड़ा धोखा होगा। किसान अपनी बात ही नहीं कह सकेगा।

इस कानून के विरोध में किसान पिछले 6 माह से विरोध स्वरूप आंदोलन कर रहे हैं इस आंदोलन में बहुत से किसानों ने भी जाने गवा दी हैं फिर भी वह पीछे हटने को तैयार नहीं है और लगातार आंदोलित हैं। ज्ञापन में नए कृषि कानून का विरोध दर्ज कराते हुए इसे शीघ्र अति शीघ्र वापस किए जाने की मांग की गई। इस अवसर पर प्रदेश महासचिव राहुल रिछारिया, प्रदेश सचिव मनीराम कुशवाहा, राजेंद्र शर्मा एडवोकेट, इम्तियाज हुसैन, मुकेश अग्रवाल, अनिल रिछारिया, अफजाल हुसैन, अमीरचंद आर्य, गौरव जैन, रशीद कुरेशी आदि उपस्थित रहे। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramkesh

Related News

Recommended News

static