मुख्यमंत्री की फटकार के बाद छुट्टी मांगने वाले नोएडा के जिलाधिकारी हटाये गये, विभागीय जांच का आदेश

3/31/2020 9:12:25 AM

लखनऊ, 30 मार्च (भाषा) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा सोमवार को फटकार के बाद तीन महीने की छुट्टी मांगने वाले गौतमबुद्धनगर (नोएडा) के जिलाधिकारी बी.एन. सिंह को हटाकर उनके खिलाफ जांच के आदेश दे दिये गये।

मुख्यमंत्री द्वारा नोएडा में कोविड—19 संक्रमण की रोकथाम की तैयारियों की समीक्षा बैठक के दौरान लगी फटकार के बाद जिलाधिकारी ने मुख्य सचिव आर.के. तिवारी को पत्र लिखकर तीन महीने की छुट्टी मांगी थी। उनका यह पत्र मीडिया में लीक हो गया।

मामला मीडिया में आने के बाद मुख्य सचिव ने देर शाम प्रेस कांफ्रेंस कर बताया, ‘‘सिंह को नोएडा के जिलाधिकारी पद से हटाकर राजस्व परिषद से सम्बद्ध कर दिया गया है। सिंह की जगह सुहास एल.वाई गौतमबुद्धनगर के नये जिलाधिकारी होंगे। वह पद ग्रहण भार करने के लिये रवाना हो गये हैं।’’
तिवारी ने बताया, ‘‘सिंह ने छुट्टी के लिये उन्हें पत्र लिखा और फिर उसे मीडिया में लीक कर दिया। यह घोर अनुशासनहीनता है और इसके लिये उनके खिलाफ विभागीय जांच भी करायी जाएगी, जिसका जिम्मा औद्योगिक एवं अवस्थापना विकास आयुक्त को सौंपा गया है।’’
मालूम हो कि प्रदेश में कोविड—19 के सबसे ज्यादा 38 मामले नोएडा में पाये गये हैं। उनमें से 31 मामले एक फैक्ट्री के कर्मचारियों के हैं। मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक में अधिकारियों को उस फैक्ट्री में तालाबंदी नहीं किये जाने पर जोरदार फटकार लगाते हुए कहा कि अधिकारियों द्वारा अपनी जिम्मेदारी एक—दूसरे पर डाले जाने की वजह से ही यह स्थिति उत्पन्न हुई है।

इसके बाद जिलाधिकारी ने मुख्य सचिव को लिखे पत्र में कहा ''व्यक्तिगत कारणों से मैं गौतमबुद्धनगर के जिलाधिकारी के पद पर नहीं रहना चाहता हूं। अत: जिलाधिकारी के पदीय दायित्वों से मुक्त करते हुए तीन माह का उपार्जित अवकाश स्वीकृत करने का कष्ट करें, क्योंकि वर्तमान में कोविड—19 को ध्यान में रखते हुए किसी भी प्रकार की प्रशासनिक शिथिलता न हो, इसलिये आवश्यक है कि जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर के पद पर किसी अन्य अधिकारी की तैनाती करने का कष्ट करें।''
इस बीच, नोएडा से प्राप्त समाचार के मुताबिक नोएडा में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होने के बाद से यहां के पुलिस तथा जिला प्रशासन के अधिकारियों के बीच तालमेल नहीं बैठ पा रहा है। पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी जिम्मेदारियों को एक—दूसरे पर डाल रहे हैं। आज भी मुख्यमंत्री के सामने पुलिस व जिला प्रशासन के अधिकारियों के बीच का मतभेद उभरकर सामने आया, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने सख्त रूख अख्तियार किया।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।


Edited By

PTI News Agency

Related News