राजभर ने राम मंदिर की जमीन खरीद में करोड़ों के घोटाले का लगाया आरोप, कहा- BJP-RSS के लिए मन्दिर व्यापार का जरिया

6/14/2021 9:06:19 PM

बलिया: सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष व प्रदेश के पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने राम मंदिर निर्माण के लिए जमीन खरीद में करोड़ों रुपए के घोटाले का आरोप लगाते हुए इसकी जांच सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय से कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि मंदिर आम लोगों के लिए आस्था का केंद्र हो सकता है, लेकिन भाजपा व आरएसएस के लिए मन्दिर व्यापार का जरिया है।       

बता दें कि सुभासपा अध्यक्ष सोमवार को रसड़ा में पार्टी के जिलाध्यक्षों की बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। पूर्व मंत्री ने आरोप लगाया है कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए एक जमीन 18 मार्च को दो करोड़ रुपये में खरीदी गई थी। इसके बाद वही जमीन 18 मार्च को ही राम मंदिर ट्रस्ट ने 18.50 करोड़ में खरीद ली। उन्होंने दावा किया है कि दोनों बार जमीन की खरीद फरोख्त में गवाह वही हैं। उन्होंने जमीन खरीदने में 16 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि निर्मोही अखाड़ा इसके पहले विश्व हिंदू परिषद पर 1400 करोड़ रुपये के घोटाला का आरोप लगा चुकी है। कहा कि ज़मीन घोटाले से करोड़ो भक्तों के आस्था से खिलवाड़ हुआ है। उन्होंने जमीन खरीदने में हुए घोटाले की सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय से जांच की मांग की है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला करते हुए कहा कि दोनों नेता भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस का दावा करते हैं।       

राजभर ने कहा कि मोदी जी और योगी जी बताए कि इस घोटाले के मामले में राम मंदिर निर्माण संस्था के ट्रस्टी पर कब मुकदमा दर्ज होगा । घोटाले में संलिप्त लोग कब गिरफ्तार कर जेल भेजे जाएंगे। भाजपा के सहयोगी रहे राजभर ने रहस्योद्घाटन किया है कि उत्तर प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चल रही गहमागहमी के मध्य पिछले दिनों भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा ने उन्हें फोन किया था, लेकिन उन्होंने उनसे बातचीत करने से इंकार कर दिया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Recommended News

static