ज्ञानवापी मामला: केस वापस लेने की घोषणा पर वैदिक सनातन संघ में फूट, 4 वादी महिलाएं बोलीं- मरते दम तक मुकदमा वापस नहीं लेंगे

punjabkesari.in Sunday, May 08, 2022 - 06:26 PM (IST)

वाराणसी: ज्ञानवापी परिसर सर्वे मामले में दिलचस्प मोड़ सामने आया है। ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे, वीडियोग्राफी व शृंगार गौरी दर्शन पूजन मामले में वादियों में ही फूट हो गई है। एक वादी राखी सिंह ने सोमवार को अपना केस वापस लेने की बात कही है। जबकि बाकी चार वादी महिलाओं ने केस वापस लेने से इंकार कर दिया है। वहीं वादी मंजू व्यास ने कहा है कि वे मरते दम तक मुकदमा वापस नहीं लेंगी।

वहीं, वादी मंजू व्यास ने कहा है कि  एक वादी के मुकरने से केस वापस नहीं होगा। हर हाल में मुकदमा जारी रहेगा। ज्ञानवापी मामले में हिंदू पक्ष की ओर से पांच महिलाओं में से एक राखी सिंह ने केस वापस लेने की घोषणा की है। हिंदू पक्ष का कहना है कि बाकी चार वादी केस वापस नहीं लेंगी। इसे लेकर हिंदू पक्ष के अधिवक्ता आगे की रणनीति बनाने में जुट गए हैं। चार वादी जिन्होंने केस जारी रखने का फैसला किया है। उनमें मंजू व्यास के अलावा सीता साहू, लक्ष्मी देवी और रेखा पाठक शामिल हैं।

दरअसल,  हिन्दू पक्ष की तरफ से 5 वादी में से एक वादी राखी सिंह कल अपना केस वापस लेंगी। हालांकि हिन्दू पक्ष का कहना है कि बाक़ी 4 वादी अपने रुख़ पर तटस्थ हैं और वो केस चलाएंगी, फ़िलहाल हिन्दू पक्ष के वक़ील और अन्य पदाधिकारी बैठक कर आगे की रणनीति तय करेंगे। 4 वादी में सीता साहू, मंजू व्यास, लक्ष्मी देवी और रेखा पाठक हैं।

बता दें कि राखी सिंह के केस वापस लेने के निर्णय के पीछे का कारण स्प्ष्ट नहीं है। ज्ञानवापी मामले में एक वादी के अपना केस वापस लेने की खबर मिलने के बाद वादी की बैठक की जाएगी। बताया जा रहा है कि इस दौरान राखी सिंह को मनाने का प्रयास किया जाएगा। राखी सिंह मामले को लेकर कैंट क्षेत्र में गोपनीय बैठक होगी। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Imran

Related News

Recommended News

static