खून से सने खाकी के हाथः वर्दी में सिपाही ने कैदी के बेटे को गोली मारकर उतारा मौत के घाट, जब सरेंडर को पहुंचा थाने तो अफसरों ने कहा- ‘पागल है’

6/10/2021 10:04:34 AM

लखनऊः आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तमाम सख्तियों के बावजूद बदमाशों, दबंगों के हौसले बुलंद हैं। लिहाजा आमजन की बचाव में लगी पुलिस अलर्ट मोड पर है। मगर राजधानी से अलग मामला सामने आया है। जहां लखनऊ के राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल गेट पर बुधवार की शाम सीतापुर के प्रवीण सिंह (34) की हत्या कर दी गई थी। हत्या किसी बदमाश ने नहीं बल्कि बदायूं निवासी सिपाही आशीष ने की थी। हत्या करने के बाद सिपाही ने थाने पहुंचकर सरेंडर कर दिया। वहीं पुलिस ने इसे हत्या नहीं बल्कि मानसिक अवसाद बताया है।

वह पागल है.......
बता दें कि हत्यारोपी आशीष सिपाही की तैनाती सीतापुर में है। वह किडनी की बीमार से पीड़ित पिता जो कि एक कैदी था उसकी सुरक्षा में था। बता दें कि वर्दी में कत्ल करके पहुंचा तो पूछताछ से पहले थाने में उसकी वर्दी उतरवाकर दूसरे कपड़े पहनाए गए। वहीं पुलिस सूत्रों ने बताया कि उसे भागने की बजाय खाकी पर भरोसा जताने के लिए शाबाशी दी गई। इतना ही नहीं अधिकारियों ने बड़ी मासूमियत से उसकी गाल पर चपत लगाकर कहा कि ये क्या कर डाला बच्चे? इसके साथ ही पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने हत्यारोपी सिपाही आशीष को पागल तक कह डाला।

और तमंचे चला दी तड़ातड़ गोलियां  
सीतापुर के मिश्रिख निवासी ध्रुव कुमार हत्या के केस में सीतापुर जेल में बंद था। किडनी की बीमारी के इलाज के लिए 25 मई को उसे लोहिया अस्पताल में भर्ती करवाया गया। सीतापुर पुलिस लाइन के सिपाही आशीष मिश्रा को उसकी सुरक्षा में तैनात किया गया था। पुलिस के अनुसार, ध्रुव का बेटा प्रवीण, सिपाही आशीष की कई शिकायत पुलिस विभाग से कर चुका था। वह अस्पताल में अक्सर उसे जान से मारने की धमकी देता था। वहीं बुधवार को दोनों में भिड़ंत हो गई। आशीष का कहना है कि उसने प्रवीण का तमंचा छीनकर उसे गोली मार दी।

 

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Moulshree Tripathi

Recommended News

static