मेनका गांधी बोलीं- अपने पूरे राजनीतिक जीवन में सबसे ज्यादा मदद की दिव्यांगों की

3/6/2021 10:21:31 AM

सुलतानपुर: पूर्व केंद्रीय मंत्री और सुलतानपुर की सांसद मेनका गांधी ने शुक्रवार को कहा कि अपने पूरे राजनीतिक जीवन में उन्होंने सबसे अधिक मदद दिव्यांगों की की है। अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे के दूसरे दिन जिला पंचायत परिसर में दिव्यांगों और निराश्रितों को सहायक उपकरण वितरण के दौरान मेनका गांधी ने कहा कि अटल सरकार में केंद्रीय सामाजिक व न्याय मंत्री के रूप में उन्होंने उत्तर प्रदेश में दिव्यांगों के लिए पहला अस्पताल पीलीभीत में खोला था। इसी विभाग से बाद में पांच अलग-अलग विभाग बनाए गए थे। दिव्यांगों के लिए कृत्रिम अंग बनाने वाली बंद पड़ी भारत सरकार की संस्था एलिम्को कानपुर का उन्होंने जीर्णोद्धार कराया था। पीलीभीत व कश्मीर में दिव्यांगों के लिए अस्पताल की स्थापना किया था।

सुलतानपुर में आज से शुरू किया गया दिव्यांगों को कृतिम अंग व उपकरणों का वितरण विभिन्न ब्लॉकों में 20 मार्च तक चलता रहेगा। गांधी ने सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय वयोंश्री योजना एवं एडिप योजना के अंतर्गत पूर्व चयनित लाभार्थियों को नि:शुल्क सहायक उपकरण वितरण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। दिसम्बर 2019 में 14 ब्लॉक परिसरों में 2536 लाभार्थी चयनित हुए थे। इस प्रकार लाभार्थियों को लगभग एक करोड़ 85 लाख रुपए की लागत से 5792 सहायक यंत्र एवं उपकरण वितरित किए जायेगें।

कृत्रिम अंगों व उपकरणों में प्रमुख रूप से फोल्डिंग व्हीलचेयर, बैसाखी, वाकिंग स्टिक, श्रवण यंत्र, ट्राइपॉड, टेट्रापोड़, फोल्डिंग वाकर, नजर का चश्मा, ट्राई साइकिल, सीपी चेयर, वाकिंग स्ट्रीट, कृत्रिम अंग एवं कैलिपर्स फोल्डिंग व्हील चेयर, बैसाखी, ब्रेल किट, श्रवण यंत्र सेल फोन और स्माटर्फोन का भी वितरण किया गया। इसके पूर्व श्रीमती गांधी ने पल्हीपुर में नमामि गंगे योजना से प्यूरीफाइड जल आपूर्ति के लिए निर्मित हो रही परियोजना का निरीक्षण भी किया। इसी गांव में पूर्व प्रधान अमरबहादुर सिंह के संयोजन में नवनिर्मित माडल सामुदायिक शौचालय का लोकार्पण भी किया। 


Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News