जनता की समस्‍याओं के न्‍यायसंगत समाधान से लोकतांत्रिक प्रणाली को मजबूती मिलती : योगी

3/5/2021 11:02:34 PM

लखनऊ, पांच मार्च (भाषा) उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शुक्रवार को नव चयनित उपजिलाधिकारियों से बातचीत में कहा कि ''जनता की समस्याओं का न्यायसंगत समाधान आवश्यक है और इससे लोकतांत्रिक प्रणाली को मजबूती मिलती है।''
मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को यहां लोक भवन सभागार में उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा-2018 में उपजिलाधिकारी के पद पर चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र वितरित करने के बाद कहा, ''''शुरुआती समय में बेहतर प्रशिक्षण आवश्यक है, जो आपके भीतर निर्णय लेने की क्षमता को विकसित करेगा। अपने करियर के शुरुआती दौर में जो अधिकारी जितनी मेहनत करेगा, वह अपने आगे भी उतना ही सफल साबित होगा।''''
उन्होंने कहा कि प्रदेश को ऊर्जा से ओत-प्रोत 97 युवा अधिकारी मिले हैं, जिनकी योग्यता व प्रतिभा का उपयोग हम आबादी के हिसाब से सबसे बड़े राज्य में बेहतर प्रशासनिक व्यवस्था को आगे बढ़ाने में कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि पीसीएस अधिकारी हमारी प्रशासनिक व्यवस्था के मेरुदण्ड हैं।

मुख्यमंत्री ने उपजिलाधिकारी पद हेतु चयनित अभ्यर्थियों को बधाई एवं शुभकामना देते हुए कहा कि इन अधिकारियों का आमजन से सीधा जुड़ाव होता है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश प्रशासन एवं प्रबन्धन अकादमी (उपाम) के ‘लोगो’ का थीम वाक्य है ‘दुःख से पीड़ित मानवता की सेवा को स्वयं को समर्पित कर सकूं।’
उन्होंने कहा कि चयनित अभ्यर्थियों की मूल नियुक्ति उपजिलाधिकारी के तौर पर हुई है। इन्हें तहसीलों में जाकर स्वतंत्र रूप से कार्य करने का अवसर प्राप्त होगा। राजस्व प्रशासन से सम्बन्धित आमजन, किसान, नौजवान, गरीब की समस्याओं का निष्पक्षता व पारदर्शिता के साथ निस्तारण करने में इनकी प्रमुख भूमिका होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने सरकारी भर्तियों के लिए पारदर्शी व्यवस्था का निर्धारण किया है। सभी प्रकार के भर्ती आयोगों/बोर्डों को पूरी पारदर्शिता के साथ भर्ती प्रक्रिया संचालित करने के निर्देश दिए गए हैं। इस प्रक्रिया के अंतर्गत अब तक चार लाख भर्तियां पूरी पारदर्शिता और ईमानदारी के साथ की गई हैं। उन्होंने अपेक्षा की कि चयनित उपजिलाधिकारी अपने-अपने दायित्वों का निर्वाह पूरी ईमानदारी से करेंगे।

उप मुख्यमंत्री डॉक्‍टर दिनेश शर्मा ने चयनित अधिकारियों से जनसेवा का संकल्प लेने का आह्वान करते हुए कहा कि यदि वे अपने संकल्पों को पूरा करेंगे तो एक सफल अधिकारी बन सकेंगे। जिन लोगों में अनवरत सीखने की प्रवृत्ति होती है, वह सफल होते हैं।

वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने सभी अधिकारियों को अपने कर्तव्यों का निर्वहन भली-भांति करने का संदेश देते हुए कहा कि उन्हें जनसेवा की भावना से अपने फर्ज निभाने चाहिए, ताकि असेवित लोगों को न्याय मिले।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

PTI News Agency

Related News