माघ मेले में संत सम्मेलन! भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की उठी मांग, कार्यक्रम में तीन प्रस्ताव हुए पास

punjabkesari.in Saturday, Jan 29, 2022 - 06:08 PM (IST)

प्रयागराज: संगम तट पर लगे माघ मेले के महावीर मार्ग पर स्थित बह्मर्षि आश्रम में धर्म संसद की कोर कमेटी की ओर से आज संत सम्मेलन किया गया। धर्म संसद के संयोजक स्वामी आनंद स्वरूप के नेतृत्व में संत सम्मेलन में भारी संख्या में संतों का जमावड़ा देखने को मिला। स्वामी आनंद स्वरूप ने बताया कि संत सम्मेलन का उद्देश्य हिंदू राष्ट्र के निर्माण में संतों की भूमिका तय करना है। संत सम्मेलन में तमाम महामंडलेश्वर, मंडलेश्वर, आचार्य महामंडलेश्वर और जगतगुरु शंकराचार्य सम्मिलित हुए । 
PunjabKesari
संतों की मौजूदगी में यह पारित हुआ है कि देश की सवा सौ करोड़ जनता स्वयं घोषित करें कि भारत हिंदू राष्ट्र है और आज से वह लिखना शुरू करें तभी यह आंदोलन बड़ा होगा।  अंत में सरकार संतों और आम जनता के दबाव के आगे झुकेगी क्योंकि लक्ष्य संत सम्मेलन का भारत को हिंदू राष्ट्र बनाना है और इस्लामिक जिहाद को दूर करना है । इस दौरान आज हुए संत सम्मेलन में तीन प्रस्ताव भी पारित हुए हैं । जिसमें सबसे पहला भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए , दूसरा धर्मांतरण कानून को और कड़ा किया जाए साथ ही साथ जो भी व्यक्ति धर्मांतरण करवाएगा उसको फांसी की सजा होनी चाहिए और तीसरा  जेल में बंद दोनो धर्मगुरु को जल्द से जल्द जेल से छोड़ा जाए । आपको बता दें दोनों धर्म गुरुओं का नाम नरसिंहानंद गिरी महाराज और वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी है । अगर दोनों धर्म गुरुओं को जल्द से जल्द जेल से मुक्त नहीं किया जाएगा तो प्रदर्शन और उग्र होगा।  यही तीन प्रस्ताव आज पारित हुए हैं और इन तीन प्रस्तावों को सरकार तक हर माध्यम से सरकार तक पहुचाया जाएगा। संत सम्मेलन में आये  संतों ने प्रशासन पर भी आरोप लगाया कि पुलिस प्रशासन ने संत सम्मेलन को रोकने के लिए भी प्रयास किए गए लेकिन उसके बावजूद भी देश के कोने-कोने से आए साधु संतों ने अपनी बातें रखें। 
PunjabKesari
हरिद्वार से आये  कृष्ण शास्त्री महाराज ने कहा कि हरिद्वार में हुई धर्म संसद में भी भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने का संकल्प लिया गया था । जिसके बाद धर्म संसद कोर कमेटी के सदस्य महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरी महाराज को प्रशासन ने गिरफ्तार किया और उनको जेल भेज दिया साथ ही साथ नरसिंहानंद गिरी के सानिध्य में वसीम रिजवी उर्फ जीतेंद्र नारायण सिंह त्यागी ने  भी जब साथ मे आवाज बुलंद की तो उनको भी जेल भेज दिया गया । इसी कड़ी में आज प्रयागराज में संत सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।  पवन कृष्ण शास्त्री महाराज ने कहा कि संत सम्मेलन का मूल  उद्देश्य है कि भारत को जल्द से जल्द हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए और इसी के चलते देश के हर कोने में धर्म संसद या कहें कि संत सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा ताकि लोग जागे और हिंदू राष्ट्र बनने में मदद करें।
PunjabKesari
 संत सम्मेलन के कोतवाल भैरव दास महाराज का कहना है कि संत सम्मेलन में यह भी निर्णय हुआ कि अगला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ही बनना चाहिए क्योंकि जिस तरीके से धर्म का प्रचार योगी आदित्यनाथ की सरकार में हुआ है उतना किसी भी सरकार में नहीं हुआ है ऐसे में संत सम्मेलन में यह भी निर्णय हुआ है की जरूरत पड़ेगी तो योगी सरकार का प्रचार वह प्रदेश के हिस्सों में जाकर के डोर टू डोर कैंपेन करके करेंगे।PunjabKesari

प्रयागराज के माघ मेले में आज दोपहर 12:00 बजे से आयोजित संत सम्मेलन में जगद्गुरु स्वामी नरेंद्रानंद सरस्वती , भैरव दास महाराज, मुरारी बापू महाराज, पवन कृष्ण शास्त्री महाराज ,समेत कई संत मौजूद रहे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Imran

Related News

Recommended News

static