प्रियंका गांधी-जयंत चौधरी की मुलाकात के बाद गठबंधन की अटकलों पर RLD और SP ने लगाया विराम

punjabkesari.in Tuesday, Nov 02, 2021 - 09:34 AM (IST)

लखनऊ: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) प्रमुख जयंत चौधरी की मुलाकात के बाद कांग्रेस और रालोद के गठबंधन की अटकलों को समाजवादी पार्टी और रालोद ने खारिज कर दिया है। उत्तर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक दलों के बीच गठबंधन की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। इस दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा और राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी की एक मुलाकात के निहितार्थ निकाले जाने लगे, लेकिन सपा और रालोद नेताओं ने दावा किया है कि रालोद का गठबंधन सपा के साथ ही होगा। 

प्रियंका रविवार को गोरखपुर में प्रतिज्ञा रैली के बाद दिल्ली जाने के लिए लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पहुंची और उसी दौरान रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी भी दिल्ली जाने के लिए वहां पहुंचे। दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई और दोनों एक ही विमान (छत्तीसगढ़ सरकार के विमान) से दिल्ली रवाना हुए। इस मुलाकात के बाद राजनीतिक हलकों में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस और रालोद में गठबंधन के कयास लगने शुरू हो गये। इस संदर्भ में रालोद के राष्ट्रीय महासचिव त्रिलोक त्यागी ने 'पीटीआई-भाषा' को बताया, ‘‘वह शिष्टाचार भेंट थी, हवाई अड्डे पर हम भी थे, चुनाव घोषणा पत्र जारी करने के बाद हम वहां पहुंचे थे।'' 

उन्होंने कहा,‘‘ हम लोग वहां बैठे रहे, सबने चाट खायी और शिष्टाचार बातचीत हुई। हम लोगों (रालोद) का 2019 से ही सपा से गठबंधन है और बातचीत अब सीटों (के बंटवारे) पर चल रही है।'' रालोद के राष्ट्रीय सचिव अनिल दुबे ने छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के विमान से रालोद अध्यक्ष के दिल्ली जाने के निहितार्थ के बारे में पूछे जाने पर 'पीटीआई-भाषा' से कहा, '' हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष को पांच बजे के विमान से दिल्ली जाना था और अचानक हवाई अड्डे पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात हो गई और दोनों लोगों ने जयंत चौधरी जी से साथ दिल्‍ली चलने का अनुरोध किया तो शिष्टाचारवश वह साथ चले गये।'' उन्होंने जोर देकर कहा कि समाजवादी पार्टी से हमारे दल का वैचारिक गठबंधन है और सीटों को लेकर अंतिम दौर में बातचीत चल रही है। 

इधर, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोमवार को 'पीटीआई-भाषा' से बातचीत में कहा कि उनकी पार्टी और रालोद के बीच गठबंधन मुकम्मल है और उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप दिया जाना है। गौरतलब है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और सपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था। उस वक्त कांग्रेस ने 114 तथा सपा ने 311 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। सपा को 47 और कांग्रेस को सात सीटों पर जीत मिली थी। 2017 में राष्ट्रीय लोकदल ने 277 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे और सिर्फ एक सीट पर जीत मिली थी। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के पुत्र पूर्व केंद्रीय मंत्री अजित सिंह ने राष्ट्रीय लोकदल का गठन किया था। अजित सिंह के निधन के बाद रालोद का नेतृत्व उनके पुत्र जयंत चौधरी संभाल रहे हैं। पार्टी पहली बार जयंत की अगुवाई में कोई विधानसभा चुनाव लड़ रही है। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tamanna Bhardwaj

Related News

Recommended News

static