फर्रुखाबाद में बाढ़ का कहर जारी, तटवर्ती गांवों में घुसा बाढ़ का पानी

8/7/2020 11:12:04 AM

फर्रुखाबादः फर्रुखाबाद में गंगा का जल स्तर चेतावनी बिंदु को पार कर गया है। इससे तटवर्ती गांव में बाढ़ का पानी पहुंच गया है। गंगा का जल स्तर बढने से गंगापार क्षेत्र के लोगों की धड़कने तेज हो गई है। बाढ़ ने किसानों की कमर तोड़ दी है। हजारों एकड़ खेतों में खड़ी धान,मक्का, उड़द, तिलि की फसल जलमग्न है। यह देख किसानों का दर्द आंसू बनकर छलक रहा है। अगर इसी कदर जलस्तर बढ़ता रहा तो और 3-4 दिनों में दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में आ सकते हैं।

दरअसल, हर साल बाढ़ के समय गंगापार के ग्रामीणों को नरकीय जीवन जीना पढ़ता है। प्रतिवर्ष उनके बने बनाए आशियाने उजड़ जाते है और खेती तहस-नहस हो जाती है। बाढ़ कम होने से बीमारी का खतरा भी बढ़ता है। उसे झेलते हुए ग्रामीण जिन्दगी से संघर्ष कर आगे बढ़ते है। अभी तक सरकार ने बाढ़ से बचाने के लिए कोई ठोस कदम नही उठाए। इस वर्ष फिर से बाढ़ का मौसम आ गया है। बरसात शुरू हो गई है और गंगा और रामगंगा अपना विनाशक रूप दिखाने की तैयारी में है, जिससे नीचले क्षेत्र में रहने वाले लोगों की धड़कनें तेज है।

कभी किसान सूखे से परेशान थे, तो अब बारिश की वजह से खेत में पानी भर जाने के कारण किसानों की फसल खराब हो गई है। नरौरा बांध से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। जिससे गंगा का जलस्तर बढ़ गया है। गंगा का बाढ़ का पानी जोगराजपुर गांव में आ जाने से गांव घिर गया है। ग्रामीणों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।  हरसिंहपुर कायस्थ, ऊगरपुर, सुंदरपुर व कछुआ गाढ़ा गांव समेत दर्जनभर गांवों में बाढ़ का पानी भर गया है।

ग्रामीण बाढ़ के पानी से निकलने को मजबूर हैं। गांव के सर्वेश बताते हैं कि गांव के निकट कटान भी हो रहा है। जिससे घरों के कटने की आशंका है। प्रतिवर्ष किसानों के भाग्य की लकीरें अधिक बारिश होने तथा बाढ़ आने पर इसी कदर फकीर बन जाती है।
 


Tamanna Bhardwaj

Related News