विपक्ष पर हमलावर हुए अमित शाह, कहा- पिछली सरकारों ने की हिंदू धार्मिक आस्था केंद्रों के विकास की उपेक्षा

8/2/2021 11:16:16 AM

मिर्जापुर/लखनऊ/वाराणसी: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकारों पर हिंदू धार्मिक आस्था के केंद्रों के विकास के प्रति उदासीनता बरतने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि वोट बैंक की चिंता के कारण इन स्थलों की उपेक्षा की गई। शाह ने यहां मां विंध्यवासिनी कॉरिडोर परियोजना का शिलान्यास और रोप-वे का लोकार्पण करने के बाद कहा, " जो पहले शासन में थे, मैं पूछना चाहता हूं कि भाई क्यों राम मंदिर का निर्माण नहीं कराया गया? क्यों ब्रज के विकास का कार्यक्रम नहीं हुआ? क्यों चित्रकूट धाम जहां भगवान श्री राम 11 साल से ज्यादा समय रहे, उसके विकास के लिए कुछ नहीं हुआ? क्यों मां विंध्यवासिनी का कॉरिडोर नहीं बना.... क्योंकि आप वोट बैंक की राजनीति से डरते थे। भाजपा वोट बैंक की राजनीति से नहीं डरती है। इसीलिए उसने इन सभी धार्मिक स्थलों के सुव्यवस्थित विकास को मूर्त रूप दिया है।"

उन्होंने कहा कि वह पहले जब काशी विश्वनाथ के दर्शन करने आते थे तो बाबा के दरबार की स्थिति देखकर दुख होता था लेकिन भाजपा के शासन में अब यह ज्योतिर्लिंग अपनी श्रद्धा और महिमा के हिसाब से नया बन रहा है। शाह ने कहा कि ब्रज तीर्थ का विकास हो, चित्रकूट धाम हो या अयोध्या में भव्य दीपोत्सव महोत्सव हो, हर परंपरा को भाजपा की योगी सरकार ने पुनर्जीवित करके लोगों की बरसों पुरानी इच्छा की पूर्ति की है। गृह मंत्री ने कहा कि धार्मिक स्थलों की उपेक्षा को देखकर लोगों के मन में यह टीस उठती थी कि आखिर क्यों हमारी आस्था का सम्मान नहीं होता? क्यों यहां परिक्रमा की सही व्यवस्था नहीं होती, यात्रा क्यों अधूरी रह जाती है? उन्होंने जनता से उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में भी भाजपा को जिताने की अपील करते हुए कहा, "आपने भाजपा को 2014, 2017 और 2019 में आशीर्वाद दिया। सपा, बसपा, कांग्रेस सब इकट्ठा हो गए लेकिन आप नहीं डिगे। आपका आशीर्वाद बढ़ता ही गया। मुझे भरोसा है कि 2022 में भी आपका आशीर्वाद भाजपा की योगी सरकार को जरूर मिलेगा और पहले से अधिक प्रचंड बहुमत से भाजपा फिर सरकार बनाएगी।"

केंद्रीय गृह मंत्री ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले जारी किए गए भाजपा के घोषणा पत्र का हर वादा पूरा कर दिया है। योगी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए शाह ने दावा किया कि प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद अपराधों में 50 फीसदी तक की कमी आयी है। उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर कटाक्ष किया और कहा "अखिलेश भाई आप और बुआ जी (बसपा अध्यक्ष मायावती) दोनों अपने 15 साल का हिसाब लेकर आ जाओ। योगी जी ने जितना काम चार साल के अंदर किया है अगर आपने 15 साल में उसका आधा भी किया हो तो यूपी की जनता आपको माफ कर देगी।" विंध्य कॉरिडोर का शिलान्यास करने के बाद गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी पहुंचे और सड़क मार्ग से श्री काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचें। गृह मंत्री ने बाबा विश्वनाथ का विधि-विधान से पूजन किया। इसके बाद अमित शाह ने विश्वनाथ धाम कॉरिडोर में चल रहे निर्माण कार्य का निरीक्षण किया।

इसके पूर्व, गृह मंत्री ने लखनऊ के सरोजिनी नगर में 'उत्तर प्रदेश स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक साइंसेज' की आधारशिला रखी। इस पर क़रीब 200 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। साथ ही केंद्र सरकार ने यहां एक डीएनए केन्द्र बनाने के लिए 15 करोड़ रूपये की राशि आवंटित की है जिससे यहां देश का सबसे आधुनिक डीएनए केन्द्र बनाया जाएगा। शुरुआत में इस संस्थान से हर साल क़रीब 150 छात्र स्नातक होंगे और यहां 350 से ज़्यादा फ़ैकल्टी होगी। यह संस्थान फ़ोरेंसिक विज्ञान के क्षेत्र में शोध और अनुसंधान के साथ ही उसके प्रैक्टिकल एप्लिकेशन को समाहित करने वाला इंस्टीट्यूट बनेगा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Recommended News

static